भास्कर पड़ताल:रोजाना 14 लाख लीटर पानी की जरूरत, मिल रहा मात्र 7 लाख लीटर ही, वो भी 10 दिन के अंतराल में

दौसाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सर्दी में भी बांदीकुई शहर में गहराया पानी का संकट, माह में 3 दिन सप्लाई वह भी खारा

बांदीकुई शहर में सर्दी के मौसम में भी पानी का संकट गहराने लगा है। हालात यह हो गए कि शहर में एक माह में पेयजल सप्लाई का अंतराल में 5 दिन से 10 दिन जा पहुंचा। शहर के लोगों को 5 दिन में पेयजल सप्लाई हो इसके लिए रोजाना करीब 14 लाख लीटर पानी की जरूरत है। लेकिन जलदाय विभाग इन दिनों मात्र 7 लाख लीटर पानी ही एकत्रित कर पा रहा है। हालात ऐसे हो गए कि अब तो माह में सिर्फ 3 दिन ही सप्लाई ठीक ढंग से नहीं वो भी खारा।

यह भी लोगों को नसीब नहीं हो रहा। इस कारण लोगों को निजी टैंकरों से मुंहमांगे पैसे देकर पानी खरीदना पड़ रहा है। शहर के 6 हजार पेयजल उपभोक्ताओं को पानी सप्लाई करने का जिम्मा जलदाय विभाग के पास है। एक माह पहले तक विभाग शहर में 5 से 6 दिन के अंतराल में लोगों को एक बार पानी मुहैया करवा रहा था। लेकिन अब सर्दी होने के साथ ही यह अंतराल 10 दिन तक जा पहुंचा। हालात यह हो रहे है कि किस काॅलोनी में पानी की सप्लाई कब होगी इसकी कोई जानकारी नहीं है। शहर के बडियाल रोड, गर्ल्स स्कूल रोड पर शनिवार को पेयजल सप्लाई होना निर्धारित था। लेकिन इन जगहों पर रविवार को भी पानी की सप्लाई नहीं हुई। शहर में जलदाय विभाग एक माह पहले तक 5 से 6 दिन के अंतराल में खारा पानी सप्लाई कर रहा था। लेकिन अब 10 दिन के अंतराल में यह भी नसीब नहीं हो रहा है।

समाधान यह...20 दिन पहले बना पंपहाउस चालू हो तो मिले राहत

बाणगंगा नदी में पानी के स्टोरेज के लिए 6 लाख लीटर की टंकी तैयार करवाई है। इसका निर्माण 20 दिन पहले हो चुका। इसको बनवाने के पीछे विभाग का उद्देश्य था कि बाणगंगा में ऐसे नलकूप जिनसे कम मात्रा में पानी मिलता है उनसे वर्तमान में पानी 7 किलोमीटर दूर श्यालावास पंपहाउस में जा रहा है। दूरी अधिक होने के कारण पानी नहीं पहुंच पाता है। ऐसे में यहां बनी पानी की टंकी में इसने से पानी पहुंच जाएगा। 24 घंटे में इन नलकूपों से दो से तीन लाख लीटर पानी टंकी में एकत्रित होगा। लेकिन यह टंकी बनकर तैयार हो गई। लेकिन ठेकेदार द्वारा मिलान नहीं करने से इसका कोई उपयोग नहीं हो पा रहा है।

स्थिति...बाणगंगा नदी में 25 नलकूप, इनमें 15 नकारा
शहर में सर्दी के मौसम में पानी संकट गहराने के पीछे प्रमुख कारण बाणगंगा नदी में नलकूपों का दम निकलना है। यहां कुल 25 नलकूप है। जिसमें 15 में पानी नहीं है। मात्र 10 नलकूप चालू है। इससे भी 24 घंटे में पंपहाउस में 4 लाख लीटर पानी की एकत्रित हो पा रहा है। इसके अलावा टेंकरों से मात्र 3 लाख लीटर पानी मिल रहा है। इस प्रकार 24 घंटे में मात्र 7 लाख लीटर पानी ही मिल पा रहा है।
टैंकरों की संख्या बढ़ाएंगे
^शहर में पानी की समस्या के समाधान के प्रयास किए जा रहे है। मै इस मामले में एईएन व जेईएन से बात कर टैंकर बढ़ाने के निर्देश देंगे।
कैलाश चंद मीना, एसई, जलदाय विभाग दौसा

खबरें और भी हैं...