पुरानी पेंशन योजना पर बोले मंत्री मुरारीलाल:केंद्र सरकार चाहे जितनी अड़चन पैदा करे, योजना लागू करेंगे

दौसाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दौसा डाक बंगले में जनसुनवाई करते मंत्री मुरारीलाल मीणा। - Dainik Bhaskar
दौसा डाक बंगले में जनसुनवाई करते मंत्री मुरारीलाल मीणा।

कृषि राज्य मंत्री मुरारीलाल मीणा ने कहा है कि 1 जनवरी 2004 के बाद नियुक्त कर्मचारियों को केंद्र में पूर्ववर्ती की भाजपा सरकार ने अंशदाई पेंशन योजना शामिल किया था, अब राजस्थान सरकार ने पुरानी पेंशन योजना बहाल कर दी है। इसका गजट नोटिफिकेशन भी जारी हो गया है। इसके साथ ही अप्रैल 2022 से कर्मचारियों के वेतन में से अंशदाई पेंशन योजना की कटौती भी बंद कर दी गई है। उन्होंने कहा कि इस काम में केंद्र सरकार चाहे कितनी भी अड़चन पैदा करे, यह काम करेंगे।

दौसा में आरपीएससी शिक्षा फोरम के पदाधिकारियों ने पुरानी पेंशन बहाली को लेकर कृषि राज्य मंत्री मुरारीलाल मीणा का आभार जताया। कृषि राज्य मंत्री मीणा ने कहा कि केंद्र सरकार ने पेंशन योजना को अटकाने की कोशिश की है। इससे हम काफी आहत हैं, राज्य की सरकारें अपने लोगों के हितों के लिए नियम बना सकती हैं, नियमों में संशोधन भी कर सकती हैं। इन्हीं नियमों को ध्यान में रखते हुए राजस्थान सरकार ने पुरानी पेंशन बहाल की है। मंत्री ने कहा कि पीएफआरडीए- एनएसडीएल की ओर से राज्य के कर्मचारियों के जमा अंशदाई कटौती राज्य सरकार को लौटानी चाहिए, किसी भी एक्ट में यह नहीं लिखा कि राज्य के कर्मचारियों के जमा राशि को लौटाया नहीं जाएगा, लेकिन केंद्र सरकार इसमें रोड़ा अटका रही है।

केंद्र सरकार कितनी ही अड़चनें पैदा करे राज्य सरकार कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन मामले उनके साथ है। मंत्री ने राज्य कर्मचारियों को आश्वस्त किया कि पुरानी पेंशन बहाली कायम रहेगी, इसके लिए राज्य सरकार हर स्तर पर मुकाबला करने के लिए तैयार है। इस अवसर पर फोरम के प्रदेश संयोजक कैलाश शर्मा व जिलाध्यक्ष प्रहलाद फाटक्या समेत अन्य पदाधिकारी भी मौजूद रहे।