सौर ऊर्जा की नहीं ली सुध:नांगल राजावतान, दौसा व लवाण के 60 राजीव गांधी सेवा केंद्रों पर लगे सौर ऊर्जा सिस्टम खराब

दौसा16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दौसा ग्रामीण। ग्राम पंचायत कालाखो  मुख्यालय पर बंद पड़ी सौर ऊर्जा की प्लेट। - Dainik Bhaskar
दौसा ग्रामीण। ग्राम पंचायत कालाखो मुख्यालय पर बंद पड़ी सौर ऊर्जा की प्लेट।
  • 3.60 करोड़ खर्च करने के बाद भी नहीं मिल रही लोगों को सुविधा, सरकारी काम भी हो रहा प्रभावित

कैलाश शर्मा | दौसा ग्रामीण सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग की ओर से 2013 में प्रदेश वासियों को एक ही छत के नीचे 270 प्रकार की सेवाएं उपलब्ध कराए जाने के साथ ही गांव में डिजिटल इंडिया के सपने को साकार करने के उद्देश्य से ग्राम पंचायत मुख्यालयों पर राजीव गांधी सेवा केंद्रों पर स्थापित सौर ऊर्जा सिस्टम ठप है।

आमजन को सरकारी योजनाओं के कार्य निर्बाध रूप से संचालित किए जाने का उद्देश्य भी सार्थक नहीं हो रहा है। सौर ऊर्जा सिस्टम खराब पड़े होने के कारण ग्राम पंचायत मुख्यालय पर संचालित ई-मित्र केंद्र व लाखों रुपए की ईमित्र प्लस मशीन पर मिलने वाली सुविधाएं नहीं मिल पा रही है। नांगल राजावतान, दौसा लवाण ब्लॉक की 60 ग्राम पंचायत मुख्यालयों पर 3.60 करोड़ रुपए खर्च कर सौर ऊर्जा पैनल सिस्टम लगाया जिनकी बैटरी खराब पड़ी होने के कारण सौर ऊर्जा सिस्टम ही बंद पड़े हैं। इस समस्या को लेकर सरपंच एवं ग्राम विकास अधिकारी कई बार उच्चाधिकारियों व राज्य सरकार को पत्र भिजवाकर सौर ऊर्जा सिस्टम ठीक कराने की मांग कर चुके, मगर कोई सुध नहीं ली गई। इससे राजीव गांधी सेवा केंद्र अब बिजली आधारित हो गए हैं। बिजली गुल होते ही राजीव गांधी सेवा केंद्रों पर संचालित ईमित्र सेंटर ठप हो जाते हैं।
यह था मुख्य उद्देश्य
राजीव गांधी सेवा केंद्रों पर संचालित ईमित्र सेंटर के माध्यम से सरकारी योजनाओं के कार्य निर्बाध रूप से संचालित कर आमजन को लाभान्वित किया जाना था। बिजली की समस्या को ध्यान में रखकर राज्य सरकार ने सभी केंद्रों पर सौर ऊर्जा सिस्टम से जोड़ा गया था, जिसकी कंपनी को 5 साल तक रखरखाव की जिम्मेदारी दी गई थी।

ग्रामीणों को ये मिलती हैं सुविधाएं
प्रमाण पत्र देखे व छापे :
विभिन्न विभागों के जारी किए जाने वाले प्रमाण पत्र जैसे मूल निवास, जाति, अल्पसंख्यक, जन्म-मृत्यु, विवाह पंजीकरण, विकलांगता, पुलिस सत्यापन प्रमाण पत्र आदि। ई-मित्र ट्रांजेक्शन की स्थिति जाने : ईमित्र पर किए गए प्रत्येक ट्रांजेक्शन आईडी होता है जिसको सेवा प्राप्त करने वाले व्यक्ति के मोबाइल नंबर पर भेजा जाता है। इसके माध्यम से अपने ट्रांजेक्शन आवेदन की वर्तमान स्थिति जान सकते है।
परीक्षा विवरण : चयन की गई परीक्षा के लिए वर्षवार परीक्षार्थी का विवरण मय परीक्षा परिणाम जान सकते है। भूमि रिकॉर्ड देखें : कोई भी व्यक्ति अपनी भूमि का समस्त रिकॉर्ड जानकारी के आधार पर प्राप्त कर सकता है।

बिल भुगतान सेवाएं : पानी व बिजली के बिल, मोबाइल के पोस्टपेड बिल इत्यादि सेवाएं प्राप्त की जा सकती है।

वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग : सरकारी अधिकारियों से लाइव सेशन द्वारा सीधे बात करना समय-समय पर विभिन्न योजनाओं व सेवाओं की जानकारी तथा प्रशिक्षण।

खबरें और भी हैं...