जेल के बजाय हॉस्पिटल जाएंगे विधायक मलिंगा:एक दिन पहले कमिश्नर सहित कई अफसरों से मिले थे, कोरोना पॉजिटिव निकले

धौलपुर3 महीने पहले

बाड़ी विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा कोर्ट की बजाय अब हॉस्पिटल जाएंगे। गुरुवार को उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई। AEN के साथ मारपीट के मामले में मलिंगा को आज धौलपुर में SC-ST कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने 15 दिन की जेल भेजने का आदेश दिया।

विधायक ने बुधवार को CM हाउस में मंत्री, जयपुर पुलिस कमिश्नर सहित कई अधिकारियों से मुलाकात की थी। CM हाउस से मलिंगा कमिश्नर के साथ कमिश्नरेट पहुंचे थे और सरेंडर किया था। बुधवार शाम को सीआईडी सीबी उन्हें धौलपुर लेकर आई और रात को धौलपुर सदर थाने में विधायक की गिरफ्तारी दिखाई गई।

सीआईडी सीबी के ASP सुरेश जैफ गुरुवार सुबह कोर्ट में पेश करने से पहले विधायक को लेकर बाड़ी पावर हाउस पहुंचे, जहां घटनास्थल का मौका मुआयना कराने के बाद जिला अस्पताल पहुंचकर मेडिकल कराया। मेडिकल कराने के बाद विधायक को कोर्ट में पेश किया गया। विधायक के वकीलों ने जमानत याचिका दायर की। कोर्ट ने जमानत याचिका खारिज करते हुए विधायक मलिंगा को 15 दिन की जेल भेज दिया। इस बीच विधायक की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई। अब उन्हें जेल की जगह जिला अस्पताल में क्वारैंटाइन किया गया है।

विधायक के अधिवक्ता पूर्व विधायक अब्दुल सगीर ने बताया कि धौलपुर कोर्ट से जमानत याचिका खारिज होने के बाद अब हाईकोर्ट में याचिका दायर की जाएगी। विधायक मलिंगा को 28 मार्च को बाडी पावर हाउस में तैनात AEN हर्षदापति के साथ हुई मारपीट के मामले में आरोपी बनाया गया था।

इन लोगों के संपर्क में आए थे विधायक
विधायक मलिंगा बुधवार को सरेंडर करने से पहले सीएमआर गए। सीएमआर में वे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सहित कई मंत्रियों और विधायकों के संपर्क में आए। इसके बाद पुलिस कमिश्नर उन्हें और मंत्री राजेंद्र गुढ़ा को लेकर कमिश्नर कार्यालय पहुंचे। करीब 1 घंटे तक मलिंगा कमिश्नर कार्यालय में अधिकारियों के बीच में रहे। इसके बाद बाहर आकर मलिंगा ने करीब एक दर्जन से अधिक मीडियाकर्मियों के साथ बाचचीत की। फिर मलिंगा को पांच पुलिसकर्मी धौलपुर ले गए। धौलपुर में भी आज मलिंगा कोर्ट के बाहर समर्थकों से मिले। इस दौरान न ही विधायक ने मास्क लगा रखा था, न किसी अन्य ने।

बढ़ सकता है कोरोना का ग्राफ
धौलपुर कोर्ट में पेशी होने से पहले विधायक का कोरोना का सैंपल लिया गया था। करीब 1 घंटे तक विधायक पीएमओ चेंबर में रुके। इस दौरान विधायक के संपर्क में बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी और उनके समर्थक भी आए। ऐसे में जिले में कोरोना का ग्राफ बढ़ने की आशंका जताई जा रही है।