खतरे के निशान से 6 मीटर ऊपर चंबल नदी:धौलपुर के 2 दर्जन गांवों में बाढ़ का संकट, प्रशासन ने किया अलर्ट जारी

धौलपुर6 महीने पहले
मध्यप्रदेश और हाड़ोती में लगातार हो रही बारिश के बाद कोटा बैराज से छोड़ा गया पानी धौलपुर पहुंचने लगा है। जिससे चंबल नदी का जलस्तर खतरे के निशान से 6 मीटर ऊपर पहुंच गया है।

मध्यप्रदेश और हाड़ोती में लगातार हो रही बारिश के बाद कोटा बैराज से छोड़ा गया पानी धौलपुर पहुंचने लगा है। जिससे चंबल नदी का जलस्तर खतरे के निशान से 6 मीटर ऊपर पहुंच गया है। चंबल नदी वर्तमान में 136 मीटर के पास बह रही है।

जलस्तर के 2 मीटर और बढ़ जाने के बाद धौलपुर के कई गांव बाढ़ की चपेट में आ जाएंगे। जिसको लेकर जिला प्रशासन लगातार निचले इलाकों में नजर बनाए हुए है। चंबल नदी का जल स्तर बढ़ने पर निचले इलाके के गांवों में बाढ़ के हालात को देखते हुए एसडीआरएफ की 4 टीमों को तैनात किया गया है। चंबल नदी में लगातार बढ़ रहे जलस्तर को देखते हुए नदी के आसपास जाने पर रोक लगा दी गई है। वहीं निचले इलाकों में पटवारी के साथ पुलिस बल को लगाया गया है। जिससे किसी भी आपात स्थिति से निपटा जा सके। धौलपुर एसडीएम भारती भारद्वाज के साथ तहसीलदार भगवतशरण त्यागी ने चंबल नदी के पुराने पुल पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया।

एसडीएम भारती भारद्वाज ने बताया कि वर्तमान में चंबल नदी 136 मीटर के पास बह रही है। जिसके चलते घेर, गमा, राजघाट सहित सभी निचले इलाके के गांवों पर निगरानी रखी जा रही है। उन्होंने बताया कि चंबल नदी का जलस्तर अगर लगातार बढ़ता है तो निचले इलाके के गांवों को खाली कराकर लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जाएगा। वहीं सरमथुरा क्षेत्र के झिरी, अमरपुरा, दुर्गसी, शंकरपुरा सहित दर्जनभर गांवों में रेड अलर्ट जारी किया गया है। जिला प्रशासन ने रेड अलर्ट जारी करते हुए चंबल नदी के 140 मीटर पर पहुंचते ही 80 गांव में बाढ़ के हालात होने की संभावना जताई है।