किसान नेताओं ने पुलिसकर्मियों से की धक्का-मुक्की:ERCP को लेकर ज्ञापन सौंपने पहुंचे कलेक्ट्रेट, जबरन घुसने की कोशिश की

धौलपुर3 महीने पहले
अतिरिक्त जिला कलेक्टर ने कलेक्ट्रेट के गेट पर पहुंचकर किसान नेताओं से बात की और प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन लिया।  - Dainik Bhaskar
अतिरिक्त जिला कलेक्टर ने कलेक्ट्रेट के गेट पर पहुंचकर किसान नेताओं से बात की और प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन लिया। 

पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना (ERCP) को राष्ट्रीय परियोजना घोषित करने की मांग को लेकर भारतीय किसान यूनियन युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम सिंह मीणा शुक्रवार को धौलपुर पहुंचे। प्रधानमंत्री के नाम कलेक्टर को ज्ञापन देने पहुंचे विक्रम सिंह मीणा और उनके समर्थक कलेक्ट्रेट में जबरन घुसने लगे। इस दौरान उनको पुलिस ने रोका तो उन्होंने पुलिस के साथ धक्का-मुक्की कर दी। इसके बाद पुलिस ने कलेक्ट्रेट का गेट बंद कर मामले की सूचना प्रशासन को दी। किसान युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम सिंह मीणा और उनके समर्थकों के उग्र होने की जानकारी मिलते ही अतिरिक्त जिला कलेक्टर सुदर्शन सिंह तोमर कलेक्ट्रेट के गेट पर पहुंचे और किसान नेताओं से बात की और प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन लिया।

किसान नेताओं ने ज्ञापन में बताया कि पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना के जरिए 13 जिले टोंक, बूंदी, बारां, कोटा, झालावाड़, अजमेर, जयपुर, दौसा, अलवर, भरतपुर, सवाई माधोपुर, करौली और धौलपुर के लोगों को लगभग 5 हजार हेक्टेयर असिंचित क्षेत्र में सिंचाई और पीने का पानी उपलब्ध होगा। इसके साथ ही परियोजना से राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में भूजल स्तर भी बढ़ेगा। उन्होंने बताया कि परियोजना से राज्य के निवेश एवं राजस्व में वृद्धि होने के साथ स्थानीय जनता को स्थाई रोजगार मिलेगा और उनके जीवन स्तर में अभूतपूर्व सुधार होगा। इसके लिए पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना को राष्ट्रीय परियोजना में घोषित करने की मांग की गई है।