2 हजार कॉलेज स्टूडेंट को स्कॉलरशिप का इंतजार:बजट नहीं मिलने से 5 करोड़ की स्कॉलरशिप अटकी

डूंगरपुर3 महीने पहले
जिले में 2 हजार के करीब एसटी कॉलेज स्टूडेंट को एक साल से स्कॉलरशिप का इंतजार है।

जिले में 2 हजार के करीब एसटी कॉलेज स्टूडेंट को एक साल से स्कॉलरशिप का इंतजार है। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग से मिलने वाली उत्तर मैट्रिक स्कॉलरशिप का भुगतान कॉलेज स्टूडेंट को नहीं हो सका है। ये राशि करीब 5 करोड़ रुपए की है। स्कॉलरशिप नहीं मिलने से परेशान कॉलेज स्टूडेंट दर-दर की ठोकरे खाने को मजबूर हैं।

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की ओर से कॉलेज स्टूडेंट को उत्तर मैट्रिक स्कॉलरशिप दिए जाने का प्रावधान है। जिसके चलते डूंगरपुर जिले में हर साल एसटी वर्ग के करीब 27 हजार स्टूडेंट को स्कॉलरशिप दी जाती है, लेकिन डूंगरपुर जिले में एसटी वर्ग के कॉलेज स्टूडेंट को वित्तीय वर्ष की स्कॉलरशिप के भुगतान का इंतजार है। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के डिप्टी डायरेक्टर अशोक शर्मा ने बताया कि पिछले वित्तीय वर्ष में सभी वर्गों के 26 हजार 747 स्टूडेंट की स्कॉलरशिप के आवेदन स्वीकृत करते हुए उनके बिल बनाए गए थे। इसमें से एसटी वर्ग के 2 हजार स्टूडेंट का करीब 5 करोड़ की स्कॉलरशिप का पिछले 6 माह से भुगतान बकाया जा रहा है।

यह बताया जा रहा कारण
डिप्टी डायरेक्टर अशोक शर्मा ने एसटी वर्ग के स्टूडेंट को स्कॉलरशिप नहीं मिलने के पीछे सबसे बड़ा कारण एक तो बजट का अभाव है। वहीं, दूसरा कारण राज्य सरकार द्वारा किया गया सिंगल नोडल अकाउंट का प्रावधान है। उन्होंने बताया की पहले कोष कार्यालय से स्कॉलरशिप का भुगतान किया जाता था, लेकिन सरकार ने अब भुगतान को सेंटरलाइज करते हुए सिंगल नोडल अकाउंट का प्रावधान कर दिया है। इसके चलते भी स्कॉलरशिप के भुगतान में देरी हो रही है। हालांकि विभाग के डिप्टी डायरेक्टर अशोक शर्मा ने उम्मीद जताई है की दिवाली बाद इस स्कॉलरशिप का भुगतान हो जाएगा।