आज से शहर में:पॉलीथिन कैरी बैग पर प्रतिबंध, रोज 10 हजार से अधिक कपड़े की थैलियां बांटेगे

डूंगरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहर में आज से पॉलीथिन कैरीबेग पूर्णरूप से प्रतिबंधित हो जाएंगे। अगर किसी दुकानदार के पास कैरीबेग मिलते है तो उसके खिलाफ नगर परिषद जुर्माना या नोटिस ही नहीं देंगे, सीधे एफआई दर्ज कराएगी। इसमें जेल जाना भी पड़ सकता है।

वहीं दूसरी परिषद ने दुकानदारों को कपड़े की थैलियां उपलब्ध कराने का भी निर्णय लिया है ताकि उनको परेशानी नहीं हो। इस काम के लिए उन्नति सेवा संस्थान से सहयोग लिया जाएगा।

संस्थान की नीलम श्रीमाल महिलाओं के सहयोग से शहर के सभी दुकानदारों को उनकी जरूरत के अनुसार कपड़े की थैलियां तैयार कराकर उपलब्ध कराएगी। इसके लिए प्रतिदिन 10 हजार से अधिक कपड़े की थेलियां ना सिर्फ तैयार करेगी बल्कि दुकानदारों को यहां भी पहुंचाएगी।

नगर परिषद सभापति अमृतलाल कलासुआ ने बताया कि शहर में पॉलीथिन कैरीबेग पूर्ण प्रतिबंध करना तो आसान है लेकिन बड़ी दुविधा यह सामने आई कि पोलीथिन कैरीबेग पूरी तरह से बंद होने जाने के बाद इसके विकल्प के रूप में कपड़े की थैलियां है। शहर में प्रतिदिन करीब 10 हजार पोलीथिन कैरीबेग की खपत है। इतनी अधिक मात्रा में कपड़े की थैलियां कौन और कैसे बनाएगा।

}वर्ष 2017 से कपड़े की थैलियां निर्माण शुरू किया : नीलम श्रीमाल ने बताया कि पोलीथिन कैरीबेग का सस्ता और अच्छा विकल्प कपड़े की थैलियां ही है। वर्ष 2017 से कपड़े की थैलियां निर्माण शुरू किया। उस समय नगरपरिषद पोलीथिन कैरीबेग जब्ती की लगातार कार्रवाई कर रही थी।

ऐसे में व्यापारियों ने पोलीथिन कैरीबेग का विकल्प मांगा तो कपड़े की थैलियां काफी पसंद की गई। ये सिलसिला लगातार एक साल तक चलता रहा।

खबरें और भी हैं...