​​​​​​​पीसीसी सदस्य नियुक्ति करने पर विवाद:तीन ब्लाॅक में बाहरी को सदस्य बनाने पर नाराजगी, विरोध में उतरे पदाधिकारी

डूंगरपुर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कई गुटाें में बिखरी कांग्रेस में पीसीसी सदस्याें की नियुक्ति के बाद एक बार फिर नया विवाद खड़ा हो गया है। कांग्रेस के अध्यक्ष पद के चुनाव को लेकर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्यों का मनोनयन किया और यह सब इतना गुपचुप हुआ कि वरिषठ नेताओं काे भनक तक नहीं लगी।

सूचना सीधे नियुक्ति पाने वाले लोगों को फोन पर सीधे दे दी गई और इनकाे शनिवार को जयपुर भी बुलवा लिया। चार विधानसभा क्षेत्र वाले डूंगरपुर जिले में डूंगरपुर ब्लाक से विधायक गणेश घोगरा, बिछीवाड़ा से अजा वित्त एवं विकास आयोग के अध्यक्ष शंकर यादव, सीमलवाड़ा से पूर्व सांसद ताराचंद भगोरा, चीखली से पूर्व प्रधान महेंद्र बरजोड़,

आसपुर से चीखली ब्लाक अध्यक्ष मनोहर सिंह, पुनाली से पूर्व उप जिला प्रमुख प्रेमकुमार पाटीदार, गलियाकोट से पूर्व विधायक सुरेंंद्र बामणिया तथा सागवाड़ा से निवर्तमान जिलाध्यक्ष दिनेश खोड़निया को पीसीसी का सदस्य नियुक्त किया। नियुक्ति की खबर सामने आते ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं में नाराजगी सीधे ताैर पर नजर अा रही है। खास यह कि राजनैतिक नियुक्ति पाने वाले नेताओं को भी सदस्य बनाया गया। शंकर यादव अजा वित्त एवं विकास आयोग के अध्यक्ष है अाैर राज्यमंत्री का दर्जा भी है।

वहीं, प्रेमकुमार पाटीदार को एग्रो इंडस्ट्रीज बोर्ड का सदस्य बनाकर राजनैतिक नियुक्ति दी है। पूर्व सांसद ताराचंद भगोरा हरियाणा प्रांत के पीआरओ है। जिले में कांग्रेस दो गुटाें में है और सदस्याें की नियुक्तियाें में भी एक गुट का पलड़ा भारी दिखा। पीसीसी में जिले के तीन ब्लाक बिछीवाड़ा, गलियाकोट व आसपुर में बाहरी व्यक्ति को सदस्य बनाया गया है। इनका विरोध हो रहा है।

आसपुर में चीखली के मनोहर सिंह को सदस्य बनाया है। जबकि, आसपुर विधानसभा क्षेत्र में कई वरिष्ठ नेता है। गलियाकाेट में सागवाड़ा से पूर्व विधायक सुरेन्द्र बामणिया काे लगाया है। वहीं, बिछीवाड़ा से यादव काे सदस्य बना दिया है। आसपुर ब्लाक के निवर्तमान अध्यक्ष करण सिंह चौहान ने कांग्रेस के सोशल मीडिय़ा ग्रुप में अपना विरोध दर्ज कराया है।

पीसीसी सदस्य की नियुक्ति को लेकर चौहान ने लिखा है कि आसपुर ब्लाक इन नियुक्ति से अनभिज्ञ है। दो माह पूर्व प्रभारी आए थे, मणिलाल ने पीसीसी में आवेदन के लिए कहा था। मैने कहा था कि आप आवेदन कर दें, मुझे कोई एतराज नहीं है। दो से तीन अन्य कार्यकर्ताओं ने भी आवेदन किए थे। बावजूद आसपुर ब्लाक अध्यक्ष को बिन बताएं नियुक्ति कर दी है। इसका विरोध है।

खबरें और भी हैं...