स्वच्छता सर्वेक्षण 2022:राजस्थान में छठी बार नंबर एक और इकलौता थ्री स्टार शहर बना डूंगरपुर

डूंगरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

वागड़ अंचल का डूंगरपुर शहर एक बार अपनी स्वच्छता को लेकर राजस्थान ही नहीं देश में छा गया है। 25 से 50 हजार आबादी वाले छोटे शहरों में देश की 3800 निकायों में 16वां स्थान तथा राजस्थान की 212 निकायों में नंबर-1 स्थान पाया है। साथ ही राजस्थान में गारबेज फ्री शहर में 3-स्टार पाने वाला इकलौत शहर बन गया है।

डूंगरपुर निकाय ने स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 के कुल अंक 7500 में से 5291 अंक हासिल किए हैं। 2209 नंबर कटे हैं, जिसके लिए डूंगरपुर शहर में सीवरेज और वॉटर प्लस न होना कारण बना है। लेकिन अगले साल यानी स्वच्छता सर्वेक्षण 2023 में हम ये नंबर पाने में समर्थ हो जाएंगे क्योंकि 159.10 करोड़ रुपए की लागत से सीवरेज और वॉटर प्रोजेक्ट शुरू हो चुका है।

बीते साल स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 में डूंगरपुर निकाय ने देश में 5वां स्थान तथा राजस्थान लगातार पांचवे साल नंबर-1 स्थान पाया था। दिल्ली के विज्ञान भवन में पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की मौजूदगी में आयोजित स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 के समारोह में डूंगरपुर नगर परिषद को गारबेज फ्री सिटी 3 स्टार रेटिंग अवार्ड और स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 में क्लीनेस्ट सिटी अवार्ड भी मिला था।

कुल अंक 6000 में से 4805 अंक मिले थे। 1195 अंक कटे हैं। इसमें सबसे ज्यादा 700 सीवरेज और वॉटर प्लस न होने के कारण कटे।

2018 में स्वच्छता सर्वेक्षण में भाग लिया और 126वां स्थान पाया, 2019 में 7वां, 2020 में 10वां और अब 2021 में छोटे शहरों में नंबर एक बने

डूंगरपुर निकाय ने स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में पहली बार भाग लिया था। उस समय 1 लाख से कम आबादी वाले शहरों में 126वां स्थान हासिल किया। 2019 में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 7वां स्थान पाया। वर्ष 2020 में देश में 10वां स्थान हासिल किया था।

स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 में डूंगरपुर निकाय देश की 25 से 50 हजार वाली निकायों में अव्वल स्थान पाया। सबसे स्वच्छ सिटी का अवार्ड और 3-स्टार रेटिंग के तहत राजस्थान प्रदेश की एक मात्र सिटी बनी जिसे लगातार दूसरे साल भी ये सम्मान प्राप्त हुआ।

जानें, क्यों कटे हमारे 2209 नंबर
स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 कुल 7500 अंकों का था। 3000 नंबर का सर्विस लेवल प्रोग्रेस, 2250 नंबर का सिटीजन वॉइस और 2250 नंबर का सर्टीफिकेशन रखा गया था। सर्विस लेवल प्रोग्रेस में सीवरेज और वॉटर प्लस न होने से सबसे ज्यादा अंक कटे हैं।

हालांकि अभी किस लेवल में कितने नंबर कटे हैं, विस्तृत जानकारी नहीं मिली है लेकिन डूंगरपुर निकाय हर साल नंबर इन्हीं दो वजहों से कटते आ रहे हैं। इसके अलावा 7 स्टार रेटिंग के भी नंबर कटे हैं, क्योंकि सीवरेज और वॉटर प्लस मिलने के बाद ही 7-स्टार के लिए एप्लाई कर सकते हैं। इसलिए इस कैटेगरी में भी हमारे नंबर कटे।

स्वच्छता को बनाए रखने में सफल हुए: सभापति
सभापति अमृत कलासुआ का कहना है कि हमारी निकाय ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि डूंगरपुर शहर देश के सबसे स्वच्छ नगरों में शामिल है। निश्चित ही इस सम्मान में हमारे सफाई कर्मचारी, परिषद अधिकारी और कर्मचारी ,

पार्षद और समस्त जनता ने इसमें सहयोग किया है। मैं इस सम्मान का हकदार इन सभी को मानता हूं। हमनें न सिर्फ शहर को स्वच्छ किया, बल्कि स्वच्छता को बनाए रखने में भी सफल हुए हैं। इसके लिए शहर के सभी लोग भागीदारी है।

शहरवासी इस सम्मान के हकदार: आयुक्त
नगरपरिषद आयुक्त विकास लेगा का कहना है कि इस अवार्ड के असली हकदार समस्त शहरवासी है जिन्होंने परिषद के स्वच्छता अभियान में अपना सहयोग दिया वहीं इस अवार्ड के हकदार परिषद के समस्त अधिकारी और कर्मचारी भी जिन्होंने इस स्वच्छता सर्वेक्षण के लिए दिन रात एक करके इस अभियान को जनअभियान बनाया।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...