संजीवनी केंद्र की टीम का प्रयास:शादी में परिवार वाले बने बाधा तो प्रेमी युगल आत्महत्या करने जा रहे थे, काउंसलिंग कर समझाया, शादी भी कराई

डूंगरपुर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

प्यार में साथ जीने-मरने की कसम खा चुके कपल के लिए यह खबर खास है। जनजाति क्षेत्र में पिछले कुछ वर्षो में प्रेमी जोड़ो के सुसाइड के मामले लगातार बढ़े है। एक ऐसा ही मामला शनिवार को फिर देखने को मिला लेकिन गनीमत रही कि इस बार प्रेमी युगल की अंतिम कोशिश काम आई और उनकी जान बच गई।

गामड़ी अहाड़ा हाल डूंगरपुर निवासी 22 वर्षीय युवक और बिलड़ी निवासी 18 वर्षीय युवती ने संजीवनी केन्द्र के हेल्पलाइन नम्बर 7357755771 पर कॉल करके बताया कि वो दोनों शादी करके साथ में रहना चाहते है। इस बारे में घर वालों को बताया लेकिन वो आनाकानी कर रहे हंै, इसीलिए घर छोड़कर चले आए हैं। युवती ने बताया कि उसके घर वाले युवक के घर वालों को डरा-धमका रहे हंै।

युवक को झूठे केस में फंसाने की धमकी दे रहे हैं इसीलिए अब वे जीना नहीं चाहते। अगर संजीवनी केन्द्र से भी उन्हें मदद नहीं मिली तो वे सुसाइड कर लेंगे। प्रेमी युगल की बात सुनकर संजीवनी केन्द्राध्यक्ष व पार्षद ब्रिजेश कुमार सोमपुरा ने उन्हें हरसंभव सहयोग का भरोसा दिलाया।

जिसके बाद प्रेमी युगल ने केन्द्र पर आकर आपबीती सुनाई। हृदय संस्थान सचिव व काउंसलर नीता भारतीय ने युगल की काउंसलिंग की। युवती ने बताया कि वह बालिग है और अपनी स्वैच्छा से युवक के साथ शादी करना चाहती है।

शैक्षणिक दस्तावेजों के आधार पर दोनों के बालिग होने की पुष्टि हुई। युवती ने बताया कि वह युवक के साथ रहकर ही अपनी आगे की पढ़ाई पूरी करना चाहती है। सोमपुरा ने बताया युवक-युवती के परिजनों से समझाइश का प्रयास किया जा रहा है। पुलिस को भी जानकारी दी है।

खबरें और भी हैं...