टेलर हत्याकांड का विरोध:टेलर हत्याकांड के विरोध में जिलेभर के बाजार बंद रखे, जताया आक्रोश

डूंगरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राज्य भर में शांति व्यवस्था बनाए रखने को लेकर मुख्य सचिव उषा शर्मा व डीजीपी एमएल लाठर ने बुधवार को वीडियो कांफ्रेंस में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारियों को विशेष निगरानी करने के निर्देश दिए हैं। सांप्रदायिक सौहार्द बिगाडऩे वाले असामाजिक तत्वों पर कड़ी नजर रखते हुए सख्ती से कार्यवाही करने की कहा है।

उन्होंने बताया कि पुलिस विभाग द्वारा पुलिस मित्र बनाए हुए हैं उनसे सांमजस्य बनाते हुए एवं ग्रामीण क्षेत्र में वार्ड पंच, सरपंच, ग्राम विकास अधिकारी, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं से संपर्क कर उनसे उनके क्षेत्र की जानकारी लेते रहें।

शांति समिति एवं सीएलजी बैठक का आयोजन करें। लोगों मेें सामंजस्यता से शांति व्यवस्था बनाए रखने लोगों को जागरूक करें। मुख्य सचिव उषा शर्मा ने बताया कि प्रशासन एवं पुलिस पुरी तरह से निगरानी रखे हुए है। किसी प्रकार कि अशांति के बारे में जानकारी मिलते ही प्रशासन एवं पुलिस मौके पर जाकर मुस्तैदी से उसका समाधान करे।

वीडियो कांफ्रेंस के बाद एसपी सुधीर जोशी व एडीएम हेमेन्द्र नागर की शांति व्यवस्था को लेकर बैठक हुई । एसपी ने कहा कि कानून तोडऩे वाले के खिलाफ पुलिस सख्त कार्यवाही अमल में लाए। अशांति फैलाने एवं लोगों को गुमराह करने की शिकायत प्राप्त होने पर संबधित के खिलाफ तत्काल कार्यवाही की जाए।

एडीएम ने आमजन से शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील करते हुए किसी भी तरह की मोबाइल से सूचना वायरल नहीं करने के निर्देश दिए हैं।

सागवाड़ा. हत्याकांड के विरोध में बुधवार को सुबह से ही बाजार बंद रहा। इस दौरान शहर की सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा। गामठवाडा, सदर बाजार, माड़वी चौक, डूंगरपुर - बांसवाड़ा रोड़, पुनर्वास कॉलोनी, शिव कॉलोनी, गलियाकोट रोड़ समेत सभी जगहों पर दुकानें बंद रही।

मेडिकल स्टोर, अस्पताल और छिटपुट चाय- नाश्ता की होटलों के अलावा पूरा बाजार बंद रहा। निर्मम हत्याकांड से आम लोगों में उपजे आक्रोश को देखते हुए कानून व्यवस्था बिगड़ने की संभावना के चलते पुलिस की ओर से सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए। शहर में चप्पे-चप्पे पर पुलिस के जवान तैनात रहे। हत्याकांड के विरोध में हिंदू संगठनों ने बंद का आह्वान किया था।

जिसका नगर के व्यापारियों और आम लोगों ने पूर्ण समर्थन दिया। सुबह में बजरंग दल, विश्व हिंदू परिषद और बीजेपी समेत हिंदू संगठनों से जुड़े लोगों के साथ ही आम नागरिक गोल चौराहे पर इकठ्ठे हुए। जहां पर घटना के विरोध में लोगों ने नारेबाजी की।

वहीं एहतियात के तौर पर पुलिस ने नगर क्षेत्र में विशेष गश्त की। डीएसपी नरपत सिंह और सीआई शैलेंद्र सिंह के निर्देशन में पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था की गई। इधर, सागवाड़ा क्षेत्र में भी मंगलवार देर रात से इंटरनेट सेवाएं बंद रही।

वही दूसरी ओर निर्मम हत्या के विरोध में बुधवार को सनातन हिंदू समाज व विभिन्न संगठनों की ओर से राष्ट्रपति के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौंपा। सुबह में हिंदू संगठन व सनातन हिंदू समाज से जुड़े लोग गोल चौराहे पर इकठ्ठे हो गए।

वहां से रैली के रूप में एसडीएम कार्यालय पहुंचे। जहां नारेबाजी करते हुए हत्यारों को फांसी की सजा देने की मांग की। इसके बाद विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों के नेतृत्व में एसडीएम रामचंद्र खटीक को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा।

इस्लामिक संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) की अत्यधिक सक्रियता और उनके वोटों की लालच में प्रदेश की गहलोत सरकार उनके असंवैधानिक कृत्यों की अनदेखी कर रही है।

ज्ञापन में इससे पहले राजस्थान में सुनियोजित तरीके से हिंदुओं पर शोभायात्राओं में किए गए हमलों और पथराव का हवाला देते हुए प्रदेश की गहलोत सरकार को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगाने, मृतक कन्हैया लाल की हत्या की सीबीआई जांच करवा कर हत्यारों को मृत्युदंड दिलाने, कट्टरवादी इस्लामिक संगठन पीएफआई पर देश में बैन लगाने,

प्रदेश में रहने वाले राष्ट्र विरोधी असामाजिक तत्वों की पहचान कर उन पर कानूनी कार्रवाई करने, मृतक के परिजनों को 5 करोड रुपए का मुआवजा देने और परिवार के किसी सदस्य को स्थाई नौकरी दिलाने की मांग की। इस अवसर पर विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल और बीजेपी समेत हिंदू संगठनों से जुड़े पदाधिकारी और आम नागरिक मौजूद रहे। इसी तरह भीलूड़ा गांव के सनातनी समाज ने हत्यकांड के विरोध में एसडीएम को ज्ञापन दिया।

गलियाकोट. उदयपुर में हुए हत्याकांड को लेकर बडगी का बाजार संपूर्ण रूप से बंद रहा। दर्जी के समर्थन में चितरी बड़गी व्यपारियो ने अपनी दुकानें बंद कर आरोपियों को कड़ी से कड़ी कार्यवाही की मांग की।

ओबरी. विश्व हिन्दू परिषद,चेम्बर्स ऑफ कॉमर्स,बजरंग दल,सर्व सनातन समाज के आह्वान पर ओबरी कस्बे का बाजार उदयपुर हत्याकांड के विरोध में सुबह से शाम तक पूर्ण बंद रहा,बंद के दौरान थानाधिकारी सीआई अनिल देवल ने मोबाइल टीम गठित कर थाना क्षेत्र में बारी-बारी से पुलिस के राउण्ड करवाएं,साथ ही पुलिस ने लाउड स्पीकर पर शांति बनाए रखने एवं धारा १४४ की पालना के तहत एकत्र नहीं होने की अपील की। दोपहर बाद युवाओं ने शांति मार्च के तहत मौन रैली निकाली।

रैली बस स्टैण्ड बाजार,नया बाजार,अस्पताल मार्ग से होते हुए उपतहसील कार्यालय पहुंची,यहां ओबरी नायब तहसीलदार भोपालसिंह राठौड को पुलिस की मौजूदगी में राष्ट्रपति, पीएमओं,गृह मंत्रालय भारत सरकार,सीएमओं राजस्थान,गृह मंत्रालय राजस्थान के नाम ज्ञापन सौंपा।इस मौके पर देवेन्द्रसिंह, नागेन्द्रसिंह, गजेन्द्रसिंह, जितेन्द्र दर्जी, सुभाष कलाल, ओबरी सरपंच शंकरलाल डामोर,जसकरणसिंह,प्रीतम सिंह,एचपी सिंह, सुशीलशाह, हीरालाल पटेल, जयंतिलाल कलाल, कांतिलाल कलाल, घनश्याम सोनी, हसमुख-लाल पटेल, राजेश जोशी आदि मौजूद थे।

गामड़ी अहाड़ा. उदयपुर में हुई घटना के विरोध में आरोपियों को सख्त सजा की मांग करते हुए गामड़ी अहाड़ा में ग्रामीणों और विभिन्न संगठनों ने प्रदर्शन करते हुए गामड़ी अहाड़ा तहसीलदार योगेंद्र कुमार वैष्णव को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

इस दौरान गामड़ी अहाड़ा में आंशिक रूप से व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रख व्यापारी संगठन ने घटना की निंदा की। वही भाजपा गंगेश्वर मंडल के कार्यकर्ताओं ने गामड़ी अहाड़ा में पूर्व जिला प्रमुख माधवलाल वरहात के नेतृत्व में प्रदर्शन कर घटना को लेकर विरोध जताया। इस दौरान बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...