ग्रह-नक्षत्र:शुक्र का तारा 53 दिन रहेगा अस्त, मांगलिक कार्य नहीं होंगे

डूंगरपुर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

धनतेरस, दीपावली, देव प्रबोधिनी एकादशी आदि तीज-त्योहार के दौरान शुक्र का तारा अस्त रहेगा। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक इस दौरान सभी मांगलिक कार्य निषेध रहेंगे। मगर धन्वंतरि पूजन, लक्ष्मी पूजन, देव प्रबोधिनी पूजन विधिवत किया जा सकेगा।

वहीं, कई पंडितों ने विजयादशमी और धनतेरस को बड़ा और अबूझ दिन मानते हुए इस दिन मांगलिक कार्य होने की बात कही है। ज्योतिषाचार्य के अनुसार इस बार एक अक्टूबर को शुक्र का तारा पूर्व दिशा में अस्त होगा तथा 53 दिन तक अस्त रहेगा।

23 नवंबर को रात 9.20 बजे पश्चिम दिशा में तारा फिर से उदित होगा। इस अवधि में विवाह, उपनयन, नींव पूजन, मुंडन, गृह प्रवेश, दुकान-प्रतिष्ठान, फैक्ट्री व मशीनरी कार्य के शुभारंभ शुभ नहीं रहेंगे।

खबरें और भी हैं...