केस दर्ज होने पर उठाया धरना:अवैध शराब कारोबारियों पर कार्रवाई, आरोपियों ने कार्रवाई गलत बता दर्ज कराया मामला

हनुमानगढ़6 महीने पहले
जिले के टिब्बी थाने में अवैध शराब कारोबारियों पर मामला दर्ज होने पर आरोपियों ने भी कार्रवाई को गलत बता टीम पर मुकदमा दर्ज करा दिया।

जिले के टिब्बी थाना क्षेत्र के गांव सुरेवाला में आबकारी टीम ने हथकड़ शराब निकालने वालों पर दबिश दी। इस दौरान कुछ लोगों ने टीम पर हमला बोल दिया। इस पर पुलिस ने अवैध शराब के साथ ही मारपीट और राजकार्य में बाधा डालने का मामला दर्ज कर लिया। पुलिस कार्रवाई को गलत बताते हुए पीड़ित धरने पर बैठक गए। उनकी रिपोर्ट पर आबकारी अधिकारी, शराब ठेकेदार और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज करने पर रात 2 बजे उन्होंने धरना समाप्त कर दिया।

टिब्बी थानाधिकारी सुभाषचंद्र कच्छावा ने बताया कि शुक्रवार सुबह अवैध शराब कारोबारियों के खिलाफ कार्रवाई के तहत संगरिया व हनुमानगढ़ आबकारी टीम सुरेवाला पहुंची थी। वहां से चौकी पुलिस को साथ लेकर वार्ड 13 में टीम ने ओमप्रकाश पुत्र शेर सिंह रायसिख के घर पर दबिश दी थी। आबकारी का आरोप है कि टीम को देखकर आरोपियों ने लाहन नष्ट कर दिया और मौके से 5 लीटर हथकड़ जब्त की। इस पर मौके पर मौजूद ओमप्रकाश, बट्टा सिंह, जगदीश, जसपाल कौर, परमजीत कौर, अमरजीत कौर और 7-8 अन्य ने आबकारी पुलिस से मारपीट की और राजकार्य में बाधा पहुंचाई। टिब्बी पुलिस ने राजकार्य बाधा में मुकदमा दर्ज किया था।

इस पर आरोपियों ने टीम की कार्रवाई को गलत बताते हुए महिलाओं से छेड़छाड़ के आरोप लगाए और पुलिस में मामला दर्ज कराने गए। मामला दर्ज नहीं करने पर धरने पर बैठ गए। बाद में डीएसपी से हुई वार्ता के बाद धरना उठा लिया है। वहीं, टिब्बी पुलिस ने आबकारी अधिकारी, शराब ठेकेदार व अन्य के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। अब सुरेवाला निवासी पीड़ित ने संगरिया डीएसपी प्रतीक मील पर दबाब देकर प्रार्थना पत्र बदलने व पुलिस कर्मियों को बचाने का आरोप भी लगाया है। वहीं, संगरिया डीएसपी प्रतीक मील का कहना है कि आरोप बेबुनियाद हैं।