केमिकल युक्त पानी की डंपिंग का विरोध:कलेक्टर से की तुरंत रोक लगाने की मांग, दूसरे क्षेत्र का पानी लाने का विरोध

हनुमानगढ़5 महीने पहले
औद्योगिक क्षेत्र द्वितीय चरण हनुमानगढ़ जंक्शन में केमिकल युक्त पानी की डम्पिंग करने का व्यापारियों ने विरोध किया।

औद्योगिक क्षेत्र द्वितीय चरण हनुमानगढ़ जंक्शन में केमिकल युक्त पानी की डम्पिंग करने का व्यापारियों ने विरोध किया है। उन्होंने कहा कि अन्य क्षेत्र का पानी द्वितीय चरण में डम्पिंग किए जाने की योजना सरासर गलत है। इस पर रोक लगाने की मांग को लेकर हनुमानगढ़ उद्योग समिति ने शुक्रवार को कलेक्टर को ज्ञापन देकर इस पर तुंरत रोक लगाने की मांग की।

औद्योगिक क्षेत्र द्वितीय चरण हनुमानगढ़ जंक्शन में केमिकल युक्त पानी की डम्पिंग को लेकर अध्यक्ष सुरेंद्र सिंगला के नेतृत्व में कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में बताया कि औद्योगिक क्षेत्र द्वितीय चरण हनुमानगढ़ जंक्शन में केमिकल युक्त पानी की डम्पिंग के लिए 30-35 फुट गहरे गड्ढे खोदे जा रहे हैं, जिनमें केमिकल युक्त पानी डालने की योजना है। औद्योगिक क्षेत्र द्वितीय चरण हनुमानगढ़ में रीको का मेन वाटर वर्क्स स्थापित है। स्कूल और खाद्य पदार्थ की इकाइयां भी चल रही हैं। फेज द्वितीय में केमिकल युक्त पानी छोड़ने से अशुद्ध पेयजल की आपूर्ति होगी। इस क्षेत्र में काफी बदबू रहेगी, जिसका दुष्प्रभाव खाद्य सामग्री के साथ-साथ यहां रहने एवं व्यवसाय करने वाले लोगों को भुगतना पड़ेगा, जबकि द्वितीय चरण के क्षेत्र की पानी निकासी की कोई व्यवस्था नहीं है।

व्यापारियों ने कहा कि अन्य क्षेत्र का पानी द्वितीय चरण में डम्पिंग किए जाने की योजना सरासर गलत है। हनुमानगढ़ उद्योग समिति ने जिला कलेक्टर को ज्ञापन देकर मांग की है कि औद्योगिक क्षेत्र द्वितीय चरण हनुमानगढ़ जंक्शन में केमिकल युक्त पानी की डम्पिंग तुरन्त प्रभाव से रुकवाई जाए अन्यथा द्वितीय चरण के समस्त उद्योगपतियों द्वारा आंदोलन किया जाएगा। इस मौके पर अध्यक्ष सुरेंद्र सिंगला, उपाध्यक्ष सौरभ शर्मा, सचिव मुकेश मित्तल, सहसचिव तरसेम धमीजा, कोषाध्यक्ष विनोद नागपाल, राजू असीजा, राजीव वर्मा, प्रवीण वर्मा, कश्मीर तायल, एसपी गर्ग, जितेंद्र जैन, किशोर कुमार, विजय भूतना, चिमन लाल, मनोज अग्रवाल, गुरपाल मित्तल, हरदीप गर्ग, कपिल अग्रवाल, वीरेंदर सैनी, अंकित गोयल, मोंटी शर्मा, सतिंदर आर्य, भूषण गर्ग, शकील अहमद सहित अन्य उधमी मौजूद थे।