मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने के लिए भटक रही विधवा:आंगनबाड़ी केन्द्र की ओर से रिपोर्ट नहीं करने से अटका कार्य

हनुमानगढ़4 महीने पहले
जिला मुख्यालय की निकटवर्ती ग्राम पंचायत 2 केएनजे की एक विधवा महिला अपने पति का मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने के लिए कई दिनों से भटक रही है।

जिला मुख्यालय की निकटवर्ती ग्राम पंचायत 2 केएनजे की एक विधवा महिला अपने पति का मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने के लिए दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर है। आंगनबाड़ी केन्द्र की ओर से रिपोर्ट नहीं किए जाने के कारण मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने में रूकावट पैदा हो रही है।

ग्राम पंचायत 2 केएनजे के वार्ड नम्बर 13 के पंच रमनदीप सिंह ने बताया कि आर्थिक रूप से कमजोर मदन खान का परिवार वार्ड नम्बर एक में रहता है। परिवार के मुखिया मदन खान का जुलाई में देहांत हो गया था। मदन खान की पत्नी बबलू अपने पति का मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने के लिए ग्राम पंचायत 2 केएनजे के ऑफिस में गई थी। जानकारी के अभाव में बबलू को दस्तावेजों की कमी बता बार-बार चक्कर कटवाए जा रहे हैं। बबलू ने यह समस्या उन्हें बताई तो उन्होंने ग्राम पंचायत ऑफिस में बात की।

आंगनबाड़ी केन्द्र की ओर से अपने क्षेत्राधिकार में नहीं होने की बात कह रिपोर्ट नहीं करने के संबंध में उन्होंने बाल विकास विभाग में बात की तो वहां से भी कोई जवाब नहीं आया। उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायत में आवेदन करने के 21 दिन में मृत्यु प्रमाण पत्र बनाए जाने का प्रावधान है, लेकिन अभी तक मृत्यु प्रमाण पत्र नहीं बना। मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए वार्ड पंच, ग्राम पंचायत सरपंच और आंगनबाड़ी केन्द्र की रिपोर्ट की आवश्यकता होती है।

वार्ड पंच और ग्राम पंचायत सरपंच की रिपोर्ट तो इस परिवार ने करवा ली, लेकिन आंगनबाड़ी केन्द्र की ओर से रिपोर्ट नहीं की जा रही। उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी केन्द्र की लापरवाही के कारण यह परिवार दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर है। वहीं, बबलू ने बताया कि अपने पति का मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने के लिए वह चक्कर काट-काट कर थक चुकी है। उसके पांच बच्चे हैं। उन्होंने प्रशासन से गुहार लगाई कि उसके पति का मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाकर दिया जाए।

खबरें और भी हैं...