• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Balaghat
  • Replica Of 'Munna' Tiger Made From 5 Quintal Waste Plastic, Reuse Of Plastic Along With Saving The Identity Of The District

एक आर्ट से दो मैसेज:5 क्विंटल वेस्ट प्लास्टिक से बनाई 'मुन्ना' टाइगर की प्रतिकृति, जिले की पहचान सहेजने के साथ प्लास्टिक के पुनः उपयोग का संदेश

बालाघाट7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बाघ बालाघाट की पहचान हैं। इस पहचान को यंग जनरेशन तक पहुंचाने और इसकी अहमियत समझाने के लिए इन दिनों अनोखे अंदाज में प्रयास हो रहे हैं। शहर के मोती गार्डन में नगर पालिका की पहल पर प्लास्टिक के कचरे से टाइगर (मुन्ना) और मशरूम की रेप्लिका (प्रतिकृति) तैयार की गई है।

यह रेप्लिका कान्हा नेशनल पार्क में मुन्ना नाम से मशहूर रहे टाइगर (टी-17) और मशरूम की है। दरअसल, नगर पालिका बालाघाट ने स्वच्छता अभियान के तहत लोगों को अवेयर करने प्लास्टिक से आर्ट पीस बनाने का अभियान शुरू किया है।

इस आर्ट पीस को लांजी की आर्टिस्ट रानी मडामे ने तैयार किया है। वेस्ट प्लास्टिक से तैयार ये आर्ट वर्क उनके करियर की पहली कलाकृति है।

मशरूम की रेप्लिका
मशरूम की रेप्लिका

दो हफ्ते में तैयार किया आर्ट पीस

2021 में खैरागढ़ यूनिवर्सिटी से बैचलर और मास्टर ऑफ फाइन आर्ट इन स्कल्पचर विषय में पढ़ाई कर चुकीं लांजी की आर्टिस्ट रानी मडामे ने बताया कि मोती गार्डन में टाइगर और मशरूम की रेप्लिका बनाने में उन्हें करीब दो हफ्ते का समय लगा। इसके लिए करीब 5 क्विंटल वेस्ट पॉलीथिन और 4 से 5 हजार खराब प्लास्टिक बोतल इस्तेमाल की गई है, जो कचरे के ढेर में पड़े-पड़े पर्यावरण को दूषित कर रही थी।

मुन्ना की एक तस्वीर लेने करते थे लंबा इंतजार

टूरिज्म प्रमोशन काउंसिल के मेंबर रवि पालेवार ने बताया कि मुन्ना नामक टाइगर कान्हा नेशनल पार्क की पहचान था, जिसकी अधिक उम्र के बाद मृत्यु हो गई थी। बताया गया कि इसे टी-17 और बिग डैडी के नाम से भी जाना था। खास बात यह है कि मुन्ना की एक तस्वीर लेने के लिए देश-विदेश के बड़े-बड़े फोटोग्राफरों को अच्छे एंगल के लिए लंबा इंतजार करना पड़ता था।

खबरें और भी हैं...