निराश लौटे श्रद्धालु:मंदिर बंद होने से स्थानीय लोगों की आजीविका पर संकट, मंत्री से की मंदिर खुलवाने की मांग

मेहंदीपुर बालाजी4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना के कारण देश के प्रसिद्ध बड़े धार्मिक स्थलों में से एक मेहंदीपुर बालाजी मंदिर बंद है। इससे देश प्रदेश से आने वाले श्रद्धालुओं को अपने आराध्य के दर्शन नहीं होने से निराश होकर वापस लौटना पड़ रहा है।

कोरोना गाइडलाइन को देखते हुए मंदिर ट्रस्ट ने जनहित में फैसला लेकर मंगलवार को मंदिर बंद कर दिया था। बाजार में भीड़ ना बढ़े इसके लिए पुलिस बालाजी थाने के आगे बैरिकेड लगाकर बालाजी धाम आने वाले श्रद्धालुओं को वापस भेज रही है।

मंदिर के पास बंद पड़ी दुकानें
मंदिर के पास बंद पड़ी दुकानें

मंदिर के बंद होने से बाजार भी बंद नजर आ रहे हैं। वहीं श्रद्धालुओं की आवक कम होने से स्थानीय लोगों की आजीविका पर गहरा संकट मंडरा रहा है। इसको लेकर स्थानीय लोगों ने पिछले दिनों जिला प्रशासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर नारेबाजी भी की थी।

मंत्री से मंदिर खुलवाने की लगाई गुहार

स्थानीय व्यापारियों ने महिला एवं बाल विकास मंत्री ममता भूपेश को ज्ञापन देकर मंदिर खुलवाने की मांग की और बताया कि स्थानीय लोगों को बालाजी मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं से एकमात्र आय का साधन है। जिसे भी जिला प्रशासन ने कोरोना गाइडलाइन के नाम पर बंद करवा दिया है।

इससे स्थानीय लोगों के आगे रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। इस दौरान मंत्री ने मंदिर खुलवाने का आश्वासन दिया और साथ ही कोरोना गाइडलाइन का पालन करने को भी कहा।

खबरें और भी हैं...