पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अवहेलना:बालेर पीएचसी में डिस्चार्ज के समय नहीं मिलते हैं नवजात के जन्म प्रमाण पत्र

बालेर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • विभागीय नियम के तहत 48 घंटे में प्रमाण पत्र जारी करने के आदेश

राजकीय चिकित्सालयों में  डिस्चार्ज के समय ही नवजात का जन्म प्रमाण जारी करने के भले ही आदेश है। लेकिन इसकी जमीनी हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है। कस्बे के राजकीय आदर्श प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बालेर मेंे डिस्चार्ज के समय नवजात के जन्म प्रमाण-पत्र परिजनों को उपलब्ध नहीं हो पाते हैं। ना ही परिजन प्रचार प्रसार की कमी के चलते नवजात के जन्म प्रमाण-पत्र की मांग करते हैं। ऐसे में जब भी सरकारी अस्पताल में जन्म प्रमाण-पत्र ऑनलाइन उपलब्ध होते हैं । तब नवजातों के जन्म प्रमाण-पत्र पीएचसी में आने तक सीमित रह जाते हैं। बालेर पीएचसी में जुलाई तक लगभग 170 प्रसव राजकीय आदर्श प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में जनवरी 2020 से 14 जुलाई 2020 तक लगभग 170 डिलीवरी होने का अनुमान बताया गया। विभागीय डीईओ के अनुसार लगभग 170 डिस्चार्ज नवजात के जन्म प्रमाण-पत्र अपडेट हुए हैं। लेकिन नवजात के परिजन जन्म प्रमाण-पत्र अपडेट होने के बाद भी लेने नहीं आते हैं। जुलाई माह मे लगभग 20-25 नवजातों के जन्म प्रमाण-पत्र पेंडिंग हैं। जानकारी का अभाव, बाद में काटते हैं चक्कर सरकार और विभागीय जानकारियों का अभाव होने एव प्रचार प्रसार नहीं होने के कारण डिस्चार्ज के समय परिजन नवजात के जन्म प्रमाण-पत्र की डिमांड भी नहीं करते हैं। वहीं विभागीय कार्मिक द्वारा डिस्चार्ज के समय नवजात के जन्म प्रमाण-पत्र उपलब्ध नहीं करवाने पर बताया गया की परिजनों द्वारा डिस्चार्ज के समय पुरे कागज़ उपलब्ध नहीं करवाए जाते हैं। हमें 21 दिन की समयावधि में नवजात का जन्म प्रमाण-पत्र देना होता है। जबकि विभागीय नियम डिस्चार्ज के समय नवजात के जन्म प्रमाण-पत्र देने के आदेश क्यों धूल फांक रहे हैं। ज्यादातर कार्यों में नेटवर्क की समस्या बताते हैं बालेर पीएचसी में ज्यादातर कार्यों में नेटवर्क की समस्या बताई जाती है। लेकिन इन दिनों नेटवर्क की समस्या ज्यादा गंभीर नहीं है। कुछ संविदा कर्मी नेटवर्क के बहाने से खंडार रहकर ही अपने कार्य को अंजाम देना ज्यादा उचित समझते हैं। इसके चलते भी डिस्चार्ज के समय नवजात के जन्म प्रमाण-पत्र नहीं मिलने का अहम कारण ये हो सकता है। 21 दिन में प्रमाण-पत्र उपलब्ध कराना जरूरी डिस्चार्ज के समय नवजात के जन्म प्रमाण पत्र के लिये पूरे दस्तावेज उपलब्ध नहीं होते हैं। इसलिए डिस्चार्ज के समय किसी को जन्म प्रमाण-पत्र उपलब्ध नहीं हो पाता है। हमें 21 दिन मंे नवजात का जन्म प्रमाण पत्र उपलब्ध करवाना होता है। मुरारी लाल, डीईओ पीएचसी बालेर वेरिफाई न हो पाने के कारण परेशानी डिस्चार्ज के समय नवजात का जन्म प्रमाण पत्र देने का ही नियम है। लेकिन वेरिफाई नहीं हो पाता है, ऐसे में डिस्चार्ज के समय नवजात का जन्म प्रमाण-पत्र नहीं मिल पाता है । -शर्मिला चौधरी, एएनएम पीएचसी बालेर

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

    और पढ़ें