अनदेखी:बालेर पीएचसी में मरीजों व प्रसूताओं पर भारी पड़ रही बिजली निगम की अनदेखी, कई घंटे गुल रहती है बिजली

बालेर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बालेर| कस्बे के पीएचसी में बिजली कटौती का दंश झेलती प्रसूताएं एवं नवजात देर रात टार्च की रोशनी में। - Dainik Bhaskar
बालेर| कस्बे के पीएचसी में बिजली कटौती का दंश झेलती प्रसूताएं एवं नवजात देर रात टार्च की रोशनी में।
  • कई बार विभागीय अधिकारियों को अवगत करवाया गया, लेकिन आश्वासन के अलावा समाधान पर कोई ध्यान नहीं

कस्बे के राजकीय आदर्श प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मे विगत कई वर्षों से भर्ती होने वाले मरीजों, प्रसुताओं, नवजात एवं उनके परिजनों को बिजली निगम की अनदेखी का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। कस्बे में स्थित 33/केवी सब स्टेशन पर ब्रेकर के अभाव में कई बार 33 केवी लाइन फाल्ट में फाल्ट के चलते सारी रात ग्रामीण क्षेत्र की बिजली आपूर्ति बंद रहती है।कई बार विभागीय अधिकारियों को अवगत करवाया गया, लेकिन आश्वासन के अलावा समाधान पर कोई ध्यान नहीं है। रात्रि के समय अस्पताल में नवजात-प्रसुताओं का हाल बुरा रहता है। लगातार 9 से 10 घंटे बिजली आपूर्ति ठप रहती है।

वहीं कस्बे के उपभोक्ताओं ने कस्बे में व्याप्त बिजली संबंधित समस्याओं के समाधान की मांग को लेकर खंडार एसडीएम को ज्ञापन सौंपा है। ज्ञापन में कस्बे में 132 केवी ग्रिड सब स्टेशन होने के बावजूद भी 33 केवी लाइन में फाल्ट, कभी मरम्मत के नाम पर तो कभी लोड सेडिंग के नाम पर अघोषित कटौती के समाधान की मांग की है। कस्बे की बिजली व्यवस्था में सुधार नहीं होने पर तीन दिवस बाद ग्रामीणों ने आंदोलन की चेतावनी दी है।इस बारे में खंडार एसडीएम बंशीधर योगी ने बताया कि बालेर कस्बे की बिजली आपूर्ति के लिए आ रही समस्याओं के समाधान के लिए बिजली निगम के अधिकारियों को अवगत करवाया गया है। जल्द ही समस्याओं का समाधान होगा।

तलावड़ा : आधी रात को बिजली गुल रहने से लोगों की नींद हराम, ग्रामीणों में आक्रोश

तलावड़ा| बिजली उत्पादन इकाइयों में कोयले की कमी के चलते राज्य में बिजली संकट पैदा हो गया है। इसके चलते दिन- रात में लोडशेडिंग की जा रही है। दिनभर में कई बार बिजली बंद हो रही है और घंटों तक आपूर्ति सुचारू नहीं हो रही है। सोमवार को आधी रात में दो तीन बार कस्बे में बिजली गुल हुई जिससे ग्रामीणों की रात की नींद हराम हो गई। कई क्षेत्रों में करीब 20 मिनट बाद ही बिजली आपूर्ति शुरू हो गई, तो कई जगह करीब एक से डेढ़ घंटे तक लोग उमस व गर्मी से परेशान होते रहे। इसी तरह मंगलवार और बुधवार को दिन रात में कई बार बिजली कटौती हुई। बिजली की कटौती का सबसे अधिक असर ग्रामीण क्षेत्रों में देखने को मिल रहा है। यहां रात को भी कई घंटों तक आपूर्ति शुरू नहीं हुई तो दिनभर भी कई बार बिजली आपूर्ति बंद रखी गई।क्षेत्र के गांवों में पिछले एक सप्ताह से अनियमित अघोषित बिजली कटौती के चलते ग्रामीणों को भीषण गर्मी में परेशान होना पड़ रहा है। गांवों एवं कस्बों में संचालित लघु उद्योग भी प्रभावित हो रहे है। हीरापुर, तलावड़ा, मच्छीपुरा और रामगढ़ मुराडा जीएसएस से क्षेत्र के सभी गांवों में बिजली आपूर्ति की जा रही है, लेकिन पिछले एक सप्ताह से लोड शेडिंग के नाम पर बिजली आपूर्ति बंद हो रही है। ग्रामीणों ने बताया कि दिन में 4 से 5 घंटे बिजली कटौती होती है। वहीं रात्रि के समय टुकड़ो में 3 से 5 घंटे बिजली कटौती हो रही है।क्षेत्र में गत चार दिन से विद्युत वितरण निगम की ओर से लोडशेडिंग के चलते गुल हो रही बिजली से ग्रामीणों में रोष है। रात के समय बिजली कटौती करने से ग्रामीणों को मजबूरी में पंखी के सहारे रात मकानों की छतों पर बितानी पड़ रही है। पंचायत समिति सदस्य ममता मीना,तलावड़ा भाजपा मंडल अध्यक्ष पुखराज सलेमपुर, मघराज सैनी ने बताया कि सुबह 10 से 7 बजे के बीच बार-बार बिजली कटौती के साथ रात 8 से 2 बजे तक बार बार बिजली बंद रहने से पेयजल व फसलों की सिंचाई को लेकर संकट हो गया है। रात के समय मकानों में अंधेरा होने से ग्रामीणों को जहरीले जीव जंतु के काटने का अंदेशा रहता है।इस बारे में बिजली वितरण निगम के कनिष्ठ अभियंता पंकज शुक्ला ने बताया कि ऊपर से ही लोडसेटिंग हो रही है। बिजली की मांग अधिक होने के चलते कटौती की जा रही है। सहायक अभियंता कुंजीलाल मीणा ने बताया कि ऊपर से ही बिजली कटौती हो रही है। जैसे ही व्यवस्था ठीक हो जाएगी कटौती बंद हो जाएगी।

खबरें और भी हैं...