बाजरे की आवक:नई अनाज मंडी में 15 हजार कट्टे बाजरे की आवक, रोजाना एक करोड़ का कारोबार

बांदीकुई2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बरसात से गीला व काला बाजरा आने से भाव 1100 से 1400 रुपए तक रह गए

नई अनाज मंडी में इन दिनों बाजरे की बंपर आवक हो रही है। रोजाना 15 हजार कट्टे बाजरा आ रहा है। इससे मंडी में रोजाना 1 करोड रुपए तक का कारोबार हो रहा है। लेकिन इस बार अभी तक बरसात होने से बाजरा गीला व काला आने से इसके भाव कम है। यदि बाजरा सूखा आता तो मंडी में इन दिनों कारोबार डेढ़ करोड़ रुपए तक पहुंच सकता था। क्षेत्र में इस बार बरसात अच्छी होने के कारण किसानों ने सबसे ज्यादा बाजरे की पैदावार की है। ग्रामीण क्षेत्र में बाजरे की पैदावार अच्छी होने से किसान भी खुश है। लेकिन हर बार सितंबर माह में विदा होने वाले मानसून की दस्तक अभी तक भी होने से अब किसान अब परेशान है। सितंबर माह में बाजरे की फसल कटाई का दौर रहता है। लेकिन इस माह कई बार बरसात आने से इसका सबसे ज्यादा प्रभाव बाजरे पर पड़ा है।

इन दिनों खेतों से कटकर मंडी में बिकने के लिए आ रहा बाजरा गीला व काला है। जबकि गत वर्ष बाजरा सूखा आया था। व्यापारियों ने बताया कि मंडी में इन दिनों रोजाना 15 हजार कट्टे बाजरा आ रहा है। इसमें करीब 8 कट्टे में गीला व काला बाजा रा है।बाजरा सूखा नहीं होने से किसानों को कम दाम मिल रहे हैंबाजरे की पैदावार करने के लिए किसानों ने दो से तीन माह तक खेतों में रात दिन मेहनत की। उम्मीद थी कि इस बार बरसात अच्छी होने से बाजरे की पैदावार सही होगी साथ ही दाम भी अच्छे मिलेगे। लेकिन अब बरसात के कारण बाजा रा गीला व काला हो जाने से किसानों के इसके दाम कम मिल रहे है।

मंडी में इस समय बाजा रा 1100 से 1450 रुपए प्रति क्विंटल बिक रहा है। जबकि गत वर्ष बाजरा सूखा होने से 1400 से 1600 रुपए तक बिका था।बाजरे की बंपर आवक लेकिन गीला व काला होने से व्यापारी परेशानमंडी के व्यापारियों ने बताया कि शुरुआत में ही मंडी में बाजरे की बंपर आवक हो रही है।इससे उम्मीद है कि आने वाले दिनों में आवक और बढेगी। लेकिन अधिकांश बाजरा गीला व काला होने से वे परेशान है। इनके दाम भी ठीक नहीं लग रहे है।

खबरें और भी हैं...