पूजा-अर्चना:बैलों की जोड़ी की बजाय ट्रैक्टरों की होने लगी पूजा-अर्चना

बनेठा22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बदलते युग में बैलों की जोड़ी लुप्त होने से किसानों द्वारा दीपावली पर कृषि यंत्र ट्रैक्टर की पूजा अर्चना करने की मुहिम शुरू हो गई है । गांवों में पहले जहां एक साथ बैलों की जोड़ी को खड़े करके गोवर्धन पूजा के बाद उनकी पूजा अर्चना की जाती थी। गांवों में आज भी उक्त परम्परा का बखूबी निर्वहन किया जा रहा है मगर कुछ बदलाव आने के साथ बैलों के स्थान पर अब ट्रैक्टरों की पूजा अर्चना की जाने लगी है । ठिकरिया जाटान ग्राम में आज भी पुरानी परंपरा का निर्वहन करते हुए गांव में एक साथ बैलों के स्थान पर ट्रैक्टरों की पूजा अर्चना महिलाओं द्वारा की जाती है । गोवर्धन पूजन के बाद ट्रैक्टरों की पूजा अर्चना करके बड़े बुजुर्गों का आशीर्वाद लिया जाता है।

खबरें और भी हैं...