दहेज प्रथा का विरोध:बारात ने लौटाए दहेद के एक लाख 11 हजार रुपए, लोगों ने की सराहना

बस्सी5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

अमूमन हम दहेज को लेकर शादियां टूटने की खबर सुनते रहते है। दहेज के लालच में लड़की वालों को खासा परेशानियों का सामना करना पड़ा। वहीं बस्सी के सुहावा गांव में दहेज प्रथा को बंद करने के लिए एक परिवार ने पहल की है।

दरअसल सुहावा में जगदीश सिंह पिता योगेंद्र सिंह के यहां शंकर लाल पंवार निवासी बंबोरी उनके बेटे की बारात लेकर आए। बारात आने के बाद मिलनी कार्यक्रम में जगदीश सिंह द्वारा दहेज के रूप में एक लाख 11 हजार रुपए, सोने की चेन और अंगूठी दहेज के रूप में रखे गए। जिस पर नरपत सिंह द्वारा दहेज प्रथा का विरोध करते हुए सभी रकम वापस लौटा दी और कहा कि समाज में फैल रही कुप्रथा बंद करने के लिए सभी को आगे आना होगा, तभी ऐसी कुप्रथा पर रोक लगेगी।

इस दौरान आए कांग्रेस नेता दिनेश सोनी ने भी नरपत सिंह एवं उनके परिवार को इस पहल के लिए सराहना की।

खबरें और भी हैं...