पेट्रोल पंप पर गबन के 3 आरोपी गिरफ्तार:कर्मचारियों ने हेरफेर कर किया था 47 लाख का गबन, 3 आरोपी पहले ही पकड़े गए

चौमूं21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपियों ने अकाउंट्स और यूपीआई ट्रांजैक्शन में हेरफेर कर 47 लाख रुपए का गबन। - Dainik Bhaskar
आरोपियों ने अकाउंट्स और यूपीआई ट्रांजैक्शन में हेरफेर कर 47 लाख रुपए का गबन।

चौमूं थाना पुलिस ने शुक्रवार को पेट्रोल पंप पर रुपयों का गबन करने के मामले में 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पेट्रोल पंप मालिक ने अकाउंटस चैक किए तो करीब 47 लाख 73 हजार 128 रुपए का गबन सामने आया था। इसके बाद पेट्रोल पंप मालिक ने कर्मचारियों के खिलाफ गबन का मामला दर्ज करवाया था। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए आरोपी विकास योगी, विजय उर्फ विजय योगी, मुकेश सैनी को पहले ही गिरफ्तार कर लिया था। करीब डेढ़ साल से फरार चल रहे आरोपी यादराम चौधरी (28) पुत्र सुगनचंद चौधरी निवासी सेपटपुरा अमरसर और मेघराज (30) पुत्र छोटूलाल जाट निवासी लीलावाली ढाणी राणावास अमरसर और पूरण सैनी उर्फ लोकेश (25) पुत्र बाबूलाल सैनी निवासी जोधपुरा टांकरड़ा को शुक्रवार को गिरफ्तार किया है।

थाना प्रभारी हेमराज ने बताया कि राधास्वामी बाग स्थित रिलायंस पेट्रोल पंप संचालक पीड़ित आदित्य माहेश्वरी (56) पुत्र बाबूलाल माहेश्वरी निवासी चौमूं ने उसके पेट्रोल पंप पर कार्यरत कर्मचारियों पर रुपयों का गबन करने का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज करवाया था। रिपोर्ट में बताया कि पिछले 2 सालों से पीड़ित अपने घरेलू कामों की व्यस्तता के कारण पेट्रोल पंप के अकाउंट्स को चेक नहीं कर पाया। 10 सितंबर 2020 को अकाउंट चेक किया गया तो स्टाफ द्वारा लिखित रजिस्टर में यूपीआई सिस्टम व पेटीएम ऐप से कुल 89 हजार 979 रुपए कलेक्शन दर्ज किया बताया गया है, जबकि सिस्टम के माध्यम से बैंक खाते में केवल 78 हजार 645 रुपए ही जमा मिले। बड़े गबन का शक होने पर उसने बैंक अकाउंट डिटेल्स चेक की, तो रोजाना आने वाली नकद धनराशि में भी गबन मिला। यूपीआई सिस्टम के द्वारा हुए ट्रांजैक्शन और नकदी का मिलान करने पर कुल 47 लाख 73 हजार रुपए का गबन मिला।