अनुदान:मंमाणा क्षेत्र में अनुदान पर आया 45 क्विंटल गेहूं 15 मिनट में ही वितरित

चौमू2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मंमाणा क्षेत्र के किसान पिछले कई दिनों से खाद व चने के बीज का इंतजार कर रहे थे और सहकारी समितियों के चक्कर लगा रहे थे। शुक्रवार को खाद तो नहीं आया, लेकिन 45 क्विंटल चने का बीज आया। जिसको आनन फानन में किसानों को वितरित कर दिया गया। अनुदान पर बीज लेने वाले किसान अपना फार्म हाथ में लिए मुंह ताकते ही रह गए। किसानों का आरोप है कि कृषि विभाग के अधिकारी अपने चहेते किसानों को बीज वितरित कर दिया। इस बारे में सरपंच मांगीलाल मीणा ने कृषि विभाग के सहायक निदेशक रामदयाल यादव व उच्च अधिकारियों से बात की है वह शीघ्र ही चने का बीज उपलब्ध कराने की मांग की है। ताकि किसान अपनी फसल समय बो सके। उधर इस बारे में सहायक कृषि अधिकारी राजकुमार सोनी का कहना है कि हमने डिमांड 500 क्विंटल की भेजी थी, लेकिन 45 किलोमीटर ही बीज आगे से भेजा गया है।

ऐसी स्थिति में किस प्रकार से वितरित किया जाए यह हमारे सामने समस्या बन गई है।सिंगल सुपर फास्फेट के 840 कट्टे आए, 700 कट्टे ट्रक में से ही उठाकर ले गए किसानबाडापदमपुरा| किसान सरसों व चने की बुआई कर रहे हैं। परन्तु क्षेत्र की सभी सहकारी समितियों में इस समय डीएपी खाद खत्म हो चुका है। मांग के अनुरूप आ भी नहीं रहा हैं। अब किसान सरसों की फसल में देरी होते देख डीएपी की जगह सिंगल सुपर फास्फेट व यूरिया खाद काम में ले रहे हैं। जिससे इस समय सिंगल सुपर फास्फेट की भी भयंकर मांग बनी हुई हैं। गुरुवार सुबह पदमपुरा सहकारी समिति में 840 कट्टे सिंगल सुपर फास्फेट का एक ट्रक आया। खाद की सूचना मिलते ही किसानों की भीड़ उमड़ पड़ी। ट्रक को खाली करने से पहले ही दोपहर एक बजे तक ट्रक में रखे ही 700 कट्टे बिक गए।

खबरें और भी हैं...