पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

किसान आंदोलन के साइड इफेक्ट:1 माह से जयपुर-दिल्ली हाइवे जाम, ट्रांसपोर्टर्स को 60 करोड़ का नुकसान

चौमू3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • ट्रैफिक डायवर्जन के चलते ग्रामीण क्षेत्र की सड़कें हो रही क्षतिग्रस्त, हादसों का भी बना अंदेशा
  • अधिक दूरी तय करने से सफर 6 केे बजाय 8 घंटे का हुआ, सब्जी-दूध सप्लायर्स भी परेशान
  • कभी कोटपूतली माइंस से गुरुग्राम-दिल्ली जाते थे 1000 ट्रक, अब 300 में ही सिमटे

शाहपुरा जयपुर- दिल्ली नेशनल हाइवे के शाहजहांपुर बोर्डर पर करीब एक-डेढ़ माह से चल रहे किसान आंदोलन के अब साइड इफेक्ट भी आने लगे है। पूर्णतया हाइवे जाम के चलते किसी की ट्रेन तो किसी की फ्लाइट छूट रही है वही कुछ लोगों के परीक्षा व साक्षात्कार तक छूट गए। हाइवे पर दो-तीन जगह डायवर्जन के चलते जिन गांवों से कभी स्थानीय छोटे वाहन निकलते थे अब वहां से बड़े ट्रक व बस तक भी निकल रहे है। जयपुर से दिल्ली जाने वालों का सफर 6 से बढ़कर 8 घंटे का हो गया है। सफर भी 250 किमी की अपेक्षा 300 किमी बढ़ गया। इससे आम आदमी खासा परेशान है। व्यापारियों, उद्योगपतियों को कच्चा माल भी देरी से मिल रहा है। जयपुर व हाइवे से सटे तमाम गांवों से दिल्ली सब्जी व दूध आदि की सप्लाई करने वाले भी खासे परेशान है।बानसूर कट बंद करने से मिली जमा से मुक्ति:जाम की स्थिति में फंसे वाहन पुलिस के साथ आम जनता के लिए परेशानी का सबब बन रहे है। पिछले एक माह से जयपुर से आई आरएसी कंपनी की महिला पुलिसकर्मी यातायात व्यवस्था बनाने में जुटी हुई है। बानसूर कट पर लगने वाला जाम आम हो गया था। पिछले एक सप्ताह से पुलिस अधिकारियों ने इस कट को बंद कर दिया, तब जाकर इस कट पर जाम से राहत मिली। ग्रामीणों का कहना है कि हाइवे जाम के चलते उनके गांव से भारी मात्रा में छोटे-बड़े वाहन निकल रहे है। इससे गांव की सड़कें क्षतिग्रस्त हो ग‌ई है वही दुर्घटना का अंदेशा भी हरदम बना रहता है।

दिल्ली हाइवे पर शाहजहांपुर फ्लाईओवर पर तंबू तान बैठे हैं किसान, बाहर से कच्चा माल नहीं आने से कारोबार पड़ा है ठप

ट्रक चालक काट रहे 150 किमी का चक्करकिसान अांदोलन के कारण कोटपूतली व शाहपुरा में पिछले एक माह में 60 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। शाहपुरा ट्रक यूनियन अध्यक्ष जगदीश पलसानियां का कहना है कि शाहपुरा क्षेत्र में करीब 3 हजार ट्रक शाहपुरा से दिल्ली जाते है। आंदोलन के चलते शाहपुरा से ट्रक अलवर, भिवाडी होते हुए दिल्ली जाते है। इसके कारण ट्रक को आने-जाने में 150 किमी की दूरी अतिरिक्त तय करनी पड़ रही है। प्रति ट्रक प्रतिमाह नुकसान होने से शाहपुरा क्षेत्र में ट्रांसपोटर्स को करीब 6 करोड़ का नुकसान अब तक हो चुका है।इसी प्रकार कोटपूतली माईंस क्षेत्र, केशवाना रीको एरिया, सोतानाला, नीमराणा, शाहजहांपुर, बहरोड में करीब 5 हजार वाहन स्थानीय उद्योगों से जुड़े है, लेकिन दिल्ली से सम्पर्क टूटने से ट्रांसपोर्ट व्यवसाय को खासा नुकसान हुआ है। तोमर स्टोन क्रेशर के संचालक सुनील यादव का कहना है कि कोटपूतली माईंस क्षेत्र से रोज 1000 ट्रक गुरूग्राम व दिल्ली जाते है लेकिन अब 300 से 350 ट्रक ही माईंस सामग्री लेकर जा रहे हैं। उनकी गाडियां या तो कही बीच में अटकी हुरई है वही अधिकांश गाडियां बाडे में खड़ी हुई है। एक माह में 40 करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका है। केशवाना रीको क्षेत्र ईमरजिंग ग्लास फैक्ट्री के मैनेजर सुनील शर्मा का कहना है कि कच्चा माल नहीं आने से कारोबार ठप है।

माइलेज पर असर...रोडवेज बसों का एवरेज घटा, रोज 6 हजार का अतिरिक्त डीजल खर्च हो रहा

रोडवेज प्रबंधन के अनुसार कोटपूतली व शाहपुरा डिपो की 30 बसें रोजाना दिल्ली रूट पर करीब 12 हजार किमी का सफर करती है। हाइवे पर रोडवेज बसें पहले साढ़े पांच किमी प्रति लीटर का एवरेज देती थी लेकिन अब यह एवरेज डायवर्जन, जाम व ग्रामीण सड़कों पर चलने के कारण घटकर 4.90 किमी प्रति लीटर रह गया है। रोडवेज डिपो प्रबंधक पवन सैनी का कहना है कि आंदोलन के चलते दोनों शाहपुरा व कोटपूतली डिपो को प्रतिदिन 6 हजार रुपए का अतिरिक्त डीजल खर्च हो रहा है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां आपके स्वाभिमान और आत्म बल को बढ़ाने में भरपूर योगदान दे रहे हैं। काम के प्रति समर्पण आपको नई उपलब्धियां हासिल करवाएगा। तथा कर्म और पुरुषार्थ के माध्यम से आप बेहतरीन सफलता...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...

  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser