कोरोना का खतरा / कृषि मंडियों में सोशल डिस्टेंस फेल

X

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

चौमू. एक तरफ सरकार लाखों रुपए खर्च कर सोशल डिस्टेंस रखने के लिए लोगों को जागरूक कर रहीं हैं और दूसरी तरफ सरकार के ही नुमाइंदों की अनदेखी की वजह से कृषि उपज मंडियों में सोशल डिस्टेंस पूरी तरह फेल हो चुकी हैं। राजफेड द्वारा समर्थन मूल्य पर किसानों की फसल खरीद में सोशल डिस्टेंस की अनदेखी करते हुए प्रतिदिन प्रत्येक खरीद केंद्र पर सौ सौ किसानों को फसल बेचने के मैसेज दिए जा रहें हैं। इसके चलते मंडियों में सैकड़ों की संख्या में किसान उमड़ने लगे हैं। मंडी के कर्मचारी सहित पल्लेदार भी अब किसानों की भीड़ से बचने लगे हैं। क्रय विक्रय सांगानेर के मैनेजर रामचरण गुप्ता ने राजफेड का विरोध करते हुए राजफेड को पत्र लिखकर सोशल डिस्टेंस का ध्यान रखते हुए किसानों को उपज बेचने के लिए मैसेज भेजने का आग्रह किया हैं।
मंडी प्रभारी लक्ष्मण गुर्जर व जगदीश शर्मा ने बताया कि खरीद कांटे कम हैं और राजफेड द्वारा एक साथ सौ किसानों के पास माल बेचने की तारीख आ रहीं हैं। इसके चलते मंडी में ट्रैक्टर ट्रॉलियों की कतार लगी हुई हैं। रोज सौ किसानों की फसल नहीं तुलने की वजह से अगले दिन भीड़ अधिक हो जाती हैं। नतीजतन उपज बेचने के लिए किसान आपस में झगड़ा करने पर उतारू हो जाते हैं। इसके साथ किसानों को भी उपज बेचने के लिए रातभर मंडी में ठहरना पड़ रहा हैं।
क्रय विक्रय समिति सांगानेर के रामचरण गुप्ता का कहना है कि मैंने, राजफेड को लिखित में पत्र लिखकर अवगत करा दिया हैं। किसान एक साथ मंडी में आने से सोशल डिस्टेंस फेल होने के साथ ही अव्यवस्था हो रही हैं। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना