पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दाहिने कूल्हे का जोड़ प्रत्यारोपण:दक्षिण कोरिया की प्रशिक्षित टीम ने चौमू में 3 मरीजों के कूल्हे के जोड़ बदले

चौमू20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शहर के कचोलिया रोड स्थित जनकल्याण हॉस्पिटल में मरीज हेमराज सैनी 22 पिता बाबूलाल सैनी के दाहिने कूल्हे का जोड़ प्रत्यारोपण किया गया। मरीज पिछले 3 वर्षों से कूल्हे के जोड़ खराब होने के कारण असहनीय दर्द से काफी परेशान थाl मरीज चलने फिरने उठने बैठने में काफी परेशानी महसूस करता था। मरीज के पिता बाबूलाल सैनी ने जनकल्याण हॉस्पिटल में दिखाया, जहां चिकित्सक टीम द्वारा एक्स-रे व जांच देखने के बाद परिजनों को बताया कि दाहिने कूल्हे का जोड़ पूर्ण रूप से खराब हो चुका था, जिसका इलाज कूल्हे का कृत्रिम जोड़ प्रत्यारोपण करना बताया।

हॉस्पिटल की चिकित्सक टीम द्वारा मरीज के दाहिने कूल्हे के जोड़ का सफल कृत्रिम जोड़ प्रत्यारोपण किया गया। मरीज ऑपरेशन के दूसरे ही दिन से आराम से वार्ड में घूम फिर रहा है। परिजनों में सफल ऑपरेशन के बाद खुशी की लहर छाई हुई है। परिजनों ने जनकल्याण हॉस्पिटल व चिकित्सक टीम का धन्यवाद दिया। कूल्हे के जोड़ प्रत्यारोपण का दूसरा मरीज सुनीता देवी सैनी w/o विकास सैनी निवासी खोरा श्यामदास उम्र 30 वर्ष जो कि दोनों कूल्हे के जोड़ खराब होने के कारण दोनों पैरों से चलने उठने बैठने में असमर्थ थी l मरीज 2 वर्षों से विकलांगता भरा जीवन जी रही थी काफी जगह दवाइयां एवं इलाज ले चुकी परंतु मरीज को जोड़ प्रत्यारोपण के सफल ऑपरेशन को लेकर संतुष्ट नहीं हुई मरीज के मिलने वाले मुकेश शर्मा ने मरीज के पति विकास सैनी को जनकल्याण हॉस्पिटल चोमू के बारे में बताया l मरीज के पति व मुकेश शर्मा ने मरीज को जनकल्याण हॉस्पिटल चोमू में दिखाया जहां जांचें एक्स-रे देखने पर मरीज के दोनों कूल्हे के जोड़ प्रत्यारोपण की सलाह दी गई, मरीज एवं परिजनों के पूर्ण संतुष्ट व सहमति के बाद मरीज के बाएं कूल्हे के जोड़ का सफल प्रत्यारोपण किया गया l मरीज ऑपरेशन के दूसरे दिन अपने पैरों पर खड़ी हो गई

ऑपरेशन के बाद मरीज व परिजनों के जीवन में नई उमंग की उम्मीद जगी परिजनों ने जनकल्याण हॉस्पिटल कि चिकित्सक टीम का आभार व्यक्त किया। कूल्हे के जोड़ प्रत्यारोपण का तीसरा मरीज सुरेंद्र कुमार बुनकर 21 पिता मुरारी लाल बुनकर निवासी आमोद मेड विराटनगर के दाहिने कूल्हे के जोड़ का सफल प्रत्यारोपण किया गया। हॉस्पिटल के डिप्टी डायरेक्टर रामचंद्र सुंडा संदीप अग्रवाल व चिकित्सक टीम ने बताया जनकल्याण हॉस्पिटल में रीड की हड्डी व जोड़ों की बीमारियों का निदान पिछले 13 वर्षों से सफलतापूर्वक किया जा रहा है। क्षेत्रवासियों व दूरदराज के मरीजों को उच्च गुणवत्ता वाली सभी सुविधाएं दिलाने का प्रयास निरंतर जारी रहेगा।

खबरें और भी हैं...