• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Chomu
  • Vehicle Thief Gang Busted, 5 Arrested, Mastermind Was Running Gang From Ajmer Jail, 2 Pickups, 1 Mahindra Thar And Tractor Seized From Accused

वाहन चोर गैंग का पर्दाफाश, 5 गिरफ्तार:अजमेर जेल से गिरोह चला रहा था मास्टरमाइंड, आरोपियों से 2 पिकअप, 1 महिंद्रा थार और ट्रैक्टर जब्त

चौमूं2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी और जब्त गाड़ियां। - Dainik Bhaskar
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी और जब्त गाड़ियां।

हरमाड़ा थाना पुलिस ने चौपहिया वाहन चोर गिरोह का खुलासा करते हुए 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से चोरी की 2 पिकअप, 1 महिंद्रा थार जीप, 1 ट्रैक्टर और अन्य वाहनों के खुर्द-बुर्द सामान को बरामद किया है। अजमेर जेल में बंद आरोपी जयसिंह चोरी के वाहनों को कबाड़ी के जरिए बिकवाने का काम कर रहा था। इस पर आरोपी जयसिंह को अजमेर जेल से प्रोडक्शन वारंट पर गिरफ्तार किया गया है।

हरमाड़ा थानाधिकारी मांगीलाल विश्नोई ने बताया कि हरमाड़ा इलाके में सीकर रोड पर 27 जुलाई को पिकअप चोरी हो गई थी। इस वारदात का खुलासा करने के लिए पुलिस टीमों का गठन किया गया था। पुलिस टीम ने कड़ी मेहनत के बाद सीसीटीवी फुटेज के आधार पर कुख्यात वाहन चोर नरेंद्र बैरवा को गिरफ्तार किया। आरोपी से पूछताछ में सामने आया कि वह अजमेर जेल में बंद जयसिंह के संपर्क में है। आरोपी नरेंद्र बैरवा जेल में बंद जयसिंह से फोन पर बातचीत करता था और चोरी के वाहन जयसिंह को बताता था। जयसिंह की बताई जगह पर चोरी के वाहनों को बेचकर पैसे लेकर वापस आता था। इसी तरह से यह पूरा गिरोह जेल से चल रहा था।

पुलिस ने बताया कि आरोप कन्हैया लाल उर्फ कान्हा पूर्व में मकराना कस्बे में एटीएम कैश वैन में 84 लाख रुपए की लूट की वारदात को अंजाम दे चुका है। आरोपी जयसिंह के खिलाफ नकबजनी, पेट्रोल पंप लूट, वाहन चोरी के 21 आपराधिक मामले विभिन्न पुलिस थानों में दर्ज हैं। आरोपी नरेंद्र बैरवा के खिलाफ वाहन चोरी के विभिन्न पुलिस थानों में 14 आपराधिक मामले दर्ज हैं। मालीराम मीणा के खिलाफ लूट व वाहन चोरी के 12 मामले दर्ज हैं।

आरोपी इस प्रकार देते थे वारदात को अंजाम
आरोपी नरेंद्र बैरवा व मालीराम मीणा बाइक से गांवों की रोड से सीसीटीवी कैमरे की निगरानी से बचते हुए शहर में आते और चोरी की वारदात को अंजाम देकर गांवों की तरफ वापस निकल जाते। आरोपी वाहन चोरी की वारदात के समय अपने मोबाइल फोन बंद करके दूसरी मोबाइल सिम काम में लेते थे और इसके बाद अजमेर जेल में बंद जयसिंह के बताए अनुसार इन गाड़ियों को बेचते थे। जयसिंह के जरिए चोरी के वाहन बेचने पर कम दाम मिलने पर इन वाहन चोरों ने खुद ही गाड़ियां बेचना शुरू कर दिया। आरोपी गाड़ियों को 25 से 30 हजार की कीमत में बेचते थे और फिर सभी रुपए आपस में बांट लेते थे। आरोपी जयसिंह अपने हिस्से की राशि अपने परिचित को दिलवा देता था। आरोपियों ने चौमूं, करधनी, दूदू, मौजमाबाद, अजमेर, टोंक में चौपहिया वाहन पिकअप, थार गाड़ी व ट्रैक्टर चोरी करने की वारदात कबूल की है।

इन आरोपियों को किया गिरफ्तार
पुलिस ने आरोपी जयसिंह राव (35) पुत्र मूलसिंह राव निवासी गांव दादिया जिला अजमेर, नरेंद्र बैरवा (22) पुत्र रामकुमार निवासी ग्राम पारली, जिला टोंक, मालीराम (21) पुत्र कैलाश मीणा निवासी दौलतपुरा बैनाड, कन्हैया लाल उर्फ कान्हा (40) पुत्र भैरूबक्स शर्मा निवासी मोरेड परबतसर जिला नागौर, रामप्रसाद (25) पुत्र गोपाल जाट निवासी गांव बुड़गियों की ढाणी दातारामगढ़ जिला सीकर को गिरफ्तार किया गया है। वाहन खरीदने वाला आरोपी कन्हैयालाल शर्मा चोरी के वाहनों को खुर्द-बुर्द कर कबाड़ में बेच देता था।

खबरें और भी हैं...