पानी सप्लाई बाधित:आनंदरामपुरा में 10 दिन से पानी सप्लाई बाधित, महिलाओं को भटकना पड़ रहा

चौमू2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पिछले 10-15 दिनों से पानी की सप्लाई नहीं आने से गांव की महिलाओं को पीने के पानी के लिए भटकना पड़ रहा

ग्राम पंचायत टूंमली का बास क्षेत्र के गांव आनन्दरामपुरा में पिछले 10 दिनों से पीने का पानी नहीं आने से गांव के महिला-पुरुषों व नवयुवकों ने प्रशासन व जनप्रतिनिधियों के प्रति रोष प्रकट किया। स्थानीय लोगों ने बताया कि जनता जल योजना के तहत गांव के सरकारी कुएं से पिछले 10-15 दिनों से पानी की सप्लाई नहीं आने से गांव की महिलाओं को पीने के पानी के लिए दर दर भटकना पड़ रहा है। लोगों ने पानी सप्लाई करने वाले पर भी आरोप लगाते हुए कहा की पम्प चालक अपनी मनमर्जी करता है। पिछले 10 दिनों से सप्लाई नहीं आने पर ग्रामीणों ने पम्प चालक, सरपंच, चाकसू विधायक, ठेकेदार व जलदाय विभाग के अधिकारियों तक अवगत कराने के बाद भी अभी तक पेयजल सप्लाई चालू नहीं होने से ग्रामीणों में प्रशासन व जनप्रतिनिधियों के प्रति गहरा रोष व्याप्त है। महिलाओं ने कहा कि हमें रोज पीने के पानी के लिए घंटों हैंडपंप पर लाईन में लगना पड़ता हैं।

गांव के कुछ रसूखदार लोगों ने सरकारी हैंडपंपों को अपने अधीन कर उनमें मोटरें डालकर अधिकृत कर लिया। जिस पर पीएचईडी विभाग व ग्राम पंचायत प्रशासन को कार्रवाई करनी चाहिए। लगभग 70-80 घरों की आबादी वाले गांव में पेयजल के लिए पांच साल पहले जनता जल योजना के तहत सरकारी कुएं का निर्माण कर पेयजल सप्लाई शुरू हुई थी। जो अब अब ठेकेदार, ग्राम पंचायत एवं पीएचईडी विभाग की आपसी खिंचा तान से पिछले 10-15 दिनों से बंद पड़ी हैं। गांव में पीने के पानी के साथ साथ मवेशियों के लिए भी पेयजल संकट गहरा गया। पंप चालक गणेश शर्मा ने कहा कि मेरा पिछले दो साल से ठेकेदार में पेमेंट बकाया चल रहा है। इसके साथ ही केबल शार्ट सर्किट से जल गई इसलिए सप्लाई बंद हैं।

^मेरी देखरेख का कार्यकाल गत 23 अप्रैल 2021 को पूरा हो गया। पंप चालक का कुछ पेमेंट बकाया चल रहा है जिसके लिए जयपुर आकर पेमेंट लेने के लिए बोल दिया।-आलोक गुर्जर, ठेकेदार^पीएचईडी विभाग ने अभी जनता जल योजना की फाइल ग्राम पंचायत को हैण्ड ओवर नहीं की। ठेकेदार में पंप चालक की पिछले 2 साल की पगार बकाया चल रही है। अभी सप्लाई पंचायत के अंडर मे नहीं है।-कन्हैयालाल, टूमली का बास सरपंच^ठेकेदार जब तक लेबर का बकाया पेमेंट नहीं देगा तब तक हम पेयजल सप्लाई ग्राम पंचायत के अंडर मे नहीं दे सकते। ठेकेदार एक दो दिन में आकर लेबर का हिसाब करेगा उसके बाद सप्लाई ग्राम पंचायत को हैण्ड ओवर कर देगें।-तेजपाल मीणा, पीएचईडी एईएन

खबरें और भी हैं...