पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना से राहत:1209 सैंपलों की जांच में 359 नए केस, यानी हर 7वां व्यक्ति संक्रमित, 10 की मौत

दाैसा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कलेक्ट्रेट पीएचसी में टीकाकरण के लिए लगी भीड़। - Dainik Bhaskar
कलेक्ट्रेट पीएचसी में टीकाकरण के लिए लगी भीड़।
  • रिकवर होने वालों की संख्या बढ़ रही, 8 दिन में 11.12% से बढ़कर 73.65 प्रतिशत पहुंची

काेराेना से लाेगाें की हार्ट बीट में उतार-चढ़ाव जारी है, उसी प्रकार पाॅजिटिव केस के आंकड़ाें का ग्राफ भी राेजाना घट-बढ़ रहा है। जिले में गुरुवार काे 313 पाॅजिटिव केस आए थे, जबकि शुक्रवार काे 359 नए पाॅजिटिव केस मिले। शुक्रवार काे 1209 सैंपलाें की जांच में 29.69 फीसदी पाॅजिटिव केस आए।

यानी हर 7वां व्यक्ति पाॅजिटिव आया हैं। दूसरी ओर सुखद बात यह है कि 30 अप्रैल से शुरू हुई रिकवरी (ठीक हाेने वाले) की दर लगातार बढ़ रही है, जाे शुक्रवार काे 8 दिन में 11.12 फीसदी बढ़कर 73.65 फीसदी पर पहुंच गई है। वहीं चिंता की सबसे बड़ी बात यह है कि काेराेना से मरने वालाें की संख्या कम नहीं हाे रही है। जिला चिकित्सालय में शुक्रवार काे भी 10 लाेगाें की माैत हाे गई, जबकि पीएमओ ने 4 लाेगाें की ही माैत बताई।

सीएमएचओ डाॅ. मनीष चाैधरी के अनुसार काेराेना संक्रमित संदिग्ध लाेगाें के अब तक 1 लाख 12 हजार 98 सैंपल लिए जा चुके हैं। इसमें 1 लाख 10 हजार 127 सैंपलाें की जांच में 8899 पाॅजिटिव व 1 लाख 1228 नेगेटिव केस आए हैं। 1971 सैंपल जारी के लिए शेष हैं।

जिले में अब काेराेना पाॅजिटिव केसाें की संख्या बढ़कर 9087 हाे गई। अब तक 6693 लाेग काेराेना से ठीक भी हाे चुके हैं, जबकि 2349 लाेग हाेम क्वारेंटाइन हैं। सीएमएचअाे के रिकाॅर्ड के अनुसार अब तक 42 लाेगाें की माैत हुई है, जबकि मरने वालाें का अांकड़ा 70 काे पार कर गया है।

पशु चिकित्सक की तबीयत बिगड़ी, आईसीयू में बेड न मिला तो बेटी के ट्वीट पर सीएमओ की पहल पर भर्ती

जिला चिकित्सालय में अब “भगवान’ भी भगवान भराेसे चल रहे हैं, क्याेंकि बेड आदि फुल हाे गए हैं। ऐसे में लाेगाें काे अपनाें काे भर्ती कराने के लिए सीएम तक अप्राेच लगानी पड़ रही है। कुछ इसी प्रकार बांदीकुई में कार्यरत पशु चिकित्सक डाॅ. मृगराज सैनी की शुक्रवार काे तबीयत बिगड़ गई, लेकिन उसे आईसीयू में भर्ती नहीं किया।

इस पर डाॅक्टर की बेटी ने एक टीवी रिपाेर्टर काे ट्वीट किया। फिर उस रिपोर्टर ने सीएमओ काे ट्वीट किया। इसके बाद सचिन पायलट भी जुड़ गए। सीएमओ की पहल पर डाॅ. मृगराज सैनी काे जिला चिकित्सालय के आईसीयू वार्ड में भर्ती किया। इसमें महत्वपूर्ण बात यह है कि डाॅक्टर की बेटी ताे पढ़ी-लिखी और रिपाेर्टर तक अप्राेच रखती थी, लेकिन आम आदमी काे बेड, ऑक्सीजन व आईसीयू की जरूरत पड़ेगी ताे जिला चिकित्सालय में सुनने वाला काेई नहीं मिलेगा। इसका कारण यह है कि जिला चिकित्सालय में सभी बेड फुल हाे चुके हैं।

खबरें और भी हैं...