पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Dausa
  • After Muzaffarnagar, Farmers From All Over The Country Will Gather In Jaipur Today, Will Get Entry In The Program On The Lines Of Parliament

संयुक्त किसान मोर्चा का आह्वान:मुजफ्फरनगर के बाद आज जयपुर में जुटेंगे देशभर के किसान, संसद की तर्ज पर मिलेगी कार्यक्रम में एंट्री

दौसा5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर जयपुर में आज किसान संसद विभिन्न संगठनों के शीर्ष नेता भी पहुंचेंगे

मुज़फ्फरनगर यूपी के बाद अब जयपुर में देशभर के किसान जुटेंगे। संयुक्त किसान मोर्चा ने बुधवार को किसान संसद बुलाई है। संसद सत्र की तर्ज पर इसमें प्रश्न काल, शून्य काल, हां पक्ष, ना पक्ष होंगे। किसान संसद में कृषि बिलों के अलावा महंगाई और निजीकरण जैसे मुद्दों पर भी चर्चा होगी। इसमें राकेश टिकैत सहित देशभर से किसान प्रतिनिधि जुटेंगे।

संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर बुधवार को जयपुर के बिड़ला ऑडिटोरियम में होने वाली किसान संसद में संयुक्त किसान मोर्चा के मुख्य किसान नेता बलवीर सिंह राजेवाल, जोगेंद्र उगराहा, गुरनाम सिंह चढ़ूंनी, बूटा सिंह बूर्जगिल, डा.दर्शन पाल, रुल्दू सिंह मानसा, रमेंद्र सिंह, सुरजीत सिंह फूल, हिम्मत सिंह गुर्जर, रणजीत सिंह राजू, रमनदीप सिंह मान, गाजीपुर बॉर्डर से गुरमीत सिंह मांगड़, सिंघू बॉर्डर से तेजवीर सिंह, गुजरात के पाटीदार नेता अल्पेश कथीरिया, दिनेश बामणियां, मध्यप्रदेश से पाटीदार नेता महेंद्र सिंह पाटीदार, नरेन्द्र सिंह पाटीदार, गुजरात से आदिवासी नेता व विभिन्न राज्यों और विभिन्न किसान संगठनों से जुड़े प्रतिनिधि मौजूद रहेंगे।

बिड़ला ऑडिटोरियम में सभी प्रतिनिधियों को अनिवार्य रूप से भरना होगा गूगल फार्म

ख़ास बात यह है कि किसान संसद का आयोजन ठीक संसद सत्र की तर्ज़ पर होगा। किसान संसद में शामिल होने वाले किसान प्रतिनिधि एक सांसद के रूप में जयपुर स्थित बिड़ला ऑडिटोरियम पहुंचेंगे। इसके लिए उनसे बाकायदा एक हाइटेक तरीके से एन्ट्रीज़ मंगाई हैं। किसान संसद में शामिल होने के लिए सभी प्रतिनिधियों से एक गूगल फॉर्म अनिवार्य रूप से भरवाया है। यहां ‘हां’ पक्ष और ‘ना’ पक्ष खासा आकर्षण का केंद्र रहेंगे। राजस्थान का किसान मोर्चा इस किसान संसद आयोजन कर रहा है। प्रदेश अध्यक्ष हिम्मत सिंह गुर्जर, सचिव धर्मेंद्र सिंह आचरा नागौर, हनुमाना राम चौधरी नागौर, कन्हैया लाल चौधरी जौबनेर, मनीराम ठेकेदार खेड़ी टोडाभीम, मोहन बैरवा, तेजराम भील मीना तथा सुवालाल मीना आदि आयोजन कोर कमेटी सदस्य हैं।

राजस्थान किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष हिम्मत सिंह गुर्जर का कहना है कि किसान संसद में प्रमुख रूप से केंद्र के तीन कृषि कानूनों के मुद्दे पर तो चर्चा होगी ही, इसके अलावा बढ़ती महंगाई और सार्वजनिक उपक्रमों के निजीकरण सहित जनहित से जुड़े कई महत्वपूर्ण मसलों पर भी चर्चा होगी। इन सभी मुद्दों पर किसान सांसद अपने पक्ष रखेंगे। एक दिवसीय संसद के विभिन्न सत्र करीब 8 घंटे तक चलेंगे। इसमें कई प्रस्ताव भी पारित किए जाएंगे। इस आयोजन के बाद किसान सांसद गांव-गांव, शहर-शहर जाकर लोगों को जागरूक करने की ज़िम्मेदारी संभालेंगे। खासतौर से कृषि बिलों की खामियों को लेकर जनता के बीच जाने पर ज़ोर दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...