पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विरोध - कृषि मंडी बंद रही:दाल-दलहन पर स्टाॅक सीमा लागू करने के विरोध में दूसरे दिन भी बंद रही कृषि मंडी

दौसा24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दौसा|हड़ताल के चलते कृषि उपज मंडी में सूना पड़ा यार्ड। - Dainik Bhaskar
दौसा|हड़ताल के चलते कृषि उपज मंडी में सूना पड़ा यार्ड।
  • हड़ताल के कारण पल्लेदारों को नहीं मिला रोजगार और नीलामी का काम भी नहीं हुआ
  • दो दिनों में करोड़ों का कारोबार चौपट हुआ
  • केंद्र सरकार द्वारा स्टॉक सीमा लागू करना किसानों तथा व्यापारियों के हितों के प्रतिकूल

केंद्र सरकार द्वारा दाल दलहन पर स्टाॅक सीमा लागू करने के विरोध में कृषि उपज मंडी बुधवार को दूसरे दिन भी बंद रही। मंडी बंद रहने से दो दिन में करीब 2 करोड़ रुपए का कारोबार ठप रहा। व्यापारियों ने केंद्र सरकार की नीति के विरोध में कारोबार बंद रखा। मंडी में गुरुवार को व्यवसाय शुरू होगा।मानगंज व्यापार एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश चौधरी ने बताया कि थोक व्यापारी के लिए चना, मूंग, उड़द, अरहर आदि दालों व दलहन पर दो हजार क्विंटल की स्टाक सीमा लागू की जा रही है, जिससे व्यापारी को भारी नुकसान झेलना पड़ेगा। यह निर्णय व्यापारी के हित में नहीं है। ऐसे में व्यापारियों को भारी नुकसान उठाना पड़ेगा।

इसके विरोध में कृषि उपज मंडी में 62 व्यापारियों ने कारोबार बंद रखा। हड़ताल के कारण मंडी में पल्लेदार भी बेरोजगार रहे। मानगंज व्यापार एसोसिएशन के मंत्री मुरारी धौंकरिया ने बताया कि मंडी में गुरुवार को कारोबार शुरू होगा। दो दिन की हड़ताल से करीब 2 करोड़ रुपए का कारोबार ठप पड़ रहा है। उन्होंने बताया कि मंडी में हड़ताल के कारण नीलामी नहीं हुई।लालसोट|उपखंड मुख्यालय सहित मंडावरी अनाज मंडी केंद्र सरकार द्वारा दलहन पर लगाई गई स्टॉक सीमा के आदेशों के विरोध में अनाज मंडी बंद रही तथा कारोबार ठप रहा। स्थिति यह रही कि 2 दिन में लालसोट तथा मंडावरी मंडी में ₹10 करोड़ का कारोबार चौपट हो गया। ग्रेन मर्चेंट एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष नवल किशोर झालानी, अध्यक्ष सत्यनारायण गुप्ता, व्यापार मंडल मंडावरी के रामजीलाल गांधी सहित ने बताया कि सरकार द्वारा दलहन जिंस पर स्टॉक सीमा लागू की जा रही है।

व्यापारियों ने बताया कि दलहन जिंस के भाव बाजार में एमएसपी दर से कम है तथा प्रचुरता के साथ दलहन जिंस व्यापारियों किसानों के पास उपलब्ध है। ऐसी स्थिति में स्टॉक सीमा लागू करना किसानों तथा व्यापारियों के हितों के प्रतिकूल है ।उन्होंने बताया कि खुले बाजार में चना ₹4800 में बिक रहा है जबकि एमएसपी 5225 रुपए है । इसी तरह मूंग खुले बाजार में 5500 रुपए प्रति क्विंटल बिक रहा है जबकि एमएसपी दर 7200 रुपए प्रति क्विंटल है। ऐसी स्थिति में जब दलहन की कमी नहीं है सरकार द्वारा स्टॉक सीमा लागू करना है अव्यवहारिक व गैरकानूनी है।

खबरें और भी हैं...