हंगामें की भेंट चढ़ी साधारण सभा की बैठक:अव्यवस्थाओं से नाराज भाजपा के सदस्यों ने किया बहिष्कार, सत्ताधारी दल के दौसा व बांदीकुई विधायक भी बैठक छोड़कर चले गए

दौसा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दौसा में जिला परिषद की बैठक में मौजूद सदस्य व अधिकारी। - Dainik Bhaskar
दौसा में जिला परिषद की बैठक में मौजूद सदस्य व अधिकारी।

जिला परिषद सभागार में बुधवार को हुई साधारण सभा की पहली बैठक खासी हंगामेदार रही। जिला प्रमुख हीरालाल सैनी की अध्यक्षता में हुई बैठक में अव्यवस्थाओं को लेकर जनप्रतिनिधि इतने नाराज हुए कि भाजपा के जिला परिषद सदस्यों ने तो बैठक का ही बहिष्कार कर दिया। वहीं अव्यवस्थाओं से नाराज हुए सत्ताधारी दल कांग्रेस के दौसा विधायक मुरारीलाल मीना व बांदीकुई विधायक जीआर खटाना भी बैठक छोड़कर चले गए, इसके साथ ही मंत्री ममता भूपेश ने भी नाराजगी जाहिर की। इससे अधिकारी भी सकते में आ गए और दोबारा बैठक बुलाने की बात कह रहे हैं। इस दौरान उप जिला प्रमुख मानधाता मीणा, सीइओ प्रताप सिंह समेत आवश्यक सेवाओं के अधिकारी मौजूद रहे।

बैठक नहीं, खानापूर्ति कर रहे थे

भाजपा जिला परिषद सदस्य पप्पू झूंथाहेडा ने कहा कि बैठक सुबह 11 बजे की तय की थी, लेकिन जिला प्रमुख व अन्य नेता काफी देरी से पहुंचे। सदस्यों के बैठने के लिए प्रोपर व्यवस्था नहीं थी, इसके साथ ही बोलने के लिए माइक खराब था। ऐसे में आधी-अधूरी व्यवस्थाओं के साथ खानापूर्ति करने का प्रयास किया जा रहा था। जनता के मुद्दों से भागना कांग्रेस के नेताओं की पुरानी फितरत रही है, लेकिन अब इनकी तानाशाही नहीं चलने दी जाएगी। जनसमस्याओं के निराकरण की मांग को लेकर हम विरोध करेंगे।

मुद्दों पर चर्चा नहीं चाहती कांग्रेस
भाजपा से जिला प्रमुख प्रत्याशी रही नीलम गुर्जर ने कहा, जिला परिषद की पहली बैठक होनी थी लेकिन शायद कांग्रेस के नेता और जिला प्रमुख जनता की समस्याओं व मुद्दों पर चर्चा ही नहीं करना चाहते। पहले तो कांग्रेस नेता और जिला प्रमुख 45 मिनट देर से पहुंचे और बैठक में अव्यवस्था होने के कारण भाजपा के सभी सदस्यों ने बैठक का बहिष्कार किया है। शायद कांग्रेस ने जिला परिषद को पिछले 10 वर्षों से नाथी का बाड़ा समझ रखा है, लेकिन अब ये नहीं चलेगा। वहीं भाजपा के सदस्य हरदेव गुर्जर समेत अन्य जिला पार्षदों ने भी कांग्रेस के नेताओं को कठघरे में खडा करते हुए उनकी कार्यशैली पर जमकर निशाना साधा।

खबरें और भी हैं...