पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ट्रिपिंग की समस्या से मिलेगा छुटकारा:दाैसा शहर में एक और 33/11 केवी जीएसएस बनेगा, बार-बार ट्रिपिंग की समस्या से मिलेगा छुटकारा

दौसा19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दौसा| बिजली निगम के एसी कार्यालय में बनेगा एक और जीएसएस।wू - Dainik Bhaskar
दौसा| बिजली निगम के एसी कार्यालय में बनेगा एक और जीएसएस।wू
  • ढाई कराेड़ रुपए का एस्टीमेट बनाकर स्वीकृति के लिए प्रस्ताव भेजा, एसई कार्यालय के जीएसएस परिसर में जगह चिह्नित की

शहर में एक और 33/11 केवी जीएसएस बनाया जाएगा। इसके लिए करीब ढाई कराेड़ रुपए का एस्टीमेट बनाकर स्वीकृति के लिए प्रस्ताव भेज दिए। स्वीकृति जारी हाेते ही जीएसएस बनाया जाएगा। यह जीएसएस बनने के बाद शहर के सात 11 केवी फीडरों काे नए जीएसएस में शिफ्ट किया जाएगा। इससे बार-बार ट्रिपिंग की समस्या नहीं आएगी। अभी ये सात फीडर 220 केवी जीएसएस से जुड़े हुए हैं। 33/11 केवी जीएसएस 220 केवी जीएसएस परिसर में ही बनाया जाएगा। इसके लिए जगह चिन्हित कर ली। इस जीएसएस काे बनाने के लिए करीब ढाई कराेड़ रुपए की लागत आएगी। इसके लिए निगम की और से एस्टीमेट बनाकर प्रस्ताव तैयार कर लिए। प्रस्ताव स्वीकृति के लिए भेज दिए। स्वीकृति मिलने के बाद जीएसएस बनाने का काम शुरू हाे सकेगा।

वहीं कंट्रोल रूम के लिए भवन भी बनेगा। नया जीएसएस बनने के बाद वोल्टेज सही मिल सकेगा। वहीं बिजली ट्रिपिंग की समस्या नहीं रहेगी। 33/11 केवी के चार जीएसएस हाे जाएंगेशहर में 33/11 केवी सिटी पावर हाउस जीएसएस, कलेक्ट्रेट जीएसएस व सिविल लाइन जीएसएस हैं। अब एक और जीएसएस बनने के बाद 33/11 केवी के चार जीएसएस हाे जाएंगे।स्वीकृति मिलते ही जीएसएस बनेगा^शहर में एक 33/11 केवी सब स्टेशन बनाया जाएगा। इसके लिए प्रस्ताव तैयार कर स्वीकृति के लिए भेज दिए। स्वीकृति मिलने के बाद जीएसएस बनाया जाएगा।-रामनरेश मीणा, एईएन, जयपुर विद्युत वितरण निगम लि., दाैसा

जीएसएस में 8-8 एमवीए के दाे पावर ट्रांसफार्मर लगेंगेनया जीएसएस बनने के बाद शहर के फीडर नंबर 1 से 5 तक तथा हाेदायली व जीराेता फीडर काे इस जीएसएस में शिफ्ट किया जाएगा। जीएसएस में 8-8 एमवीए के 2 पावर ट्रांसफार्मर लगाए जाएंगे। अभी ये फीडर 220 केवी जीएसएस से चल रहे हैं। इन फीडरों के लिए 12 एमवीए का एक पावर ट्रांसफार्मर लगा हुआ है। अब पावर ट्रांसफार्मर की क्षमता भी बढ़ सकेगी।

नए जीएसएस में 8-8 एमवीए के दाे पावर ट्रांसफार्मर लगेंगे

220 केवी जीएसएस से सात 11 केवी फीडर निकल रहे हैं। यानी करीब आधे शहर की बिजली सप्लाई इस जीएसएस से हाेती है। इस जीएसएस में 12 एमवीए का एक पावर ट्रांसफार्मर है। इसके चलते यह ओवरलाेड रहता है। वहीं वोल्टेज कम मिलते हैं। नए जीएसएस में 8-8 एमवीए के दाे पावर ट्रांसफार्मर लगाए जाएंगे। इससे वोल्टेज सही मिल सकेंगे। एक और 33/11 केवी जीएसएस बनने के बाद 220 केवी जीएसएस में 33 केवी फीडर ही रहेंगे।

खबरें और भी हैं...