प्लेटफार्म तैयार, संचालन का इंतजार:DRM ऑफिस से आदेश मिलने के बाट जोह रहा रेलवे प्रशासन, बुजुर्ग व दिव्यांग यात्रियों को परेशानी

दौसा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बांदीकुई जंक्शन पर फुट ओवरब्रिज पार करते यात्री। - Dainik Bhaskar
बांदीकुई जंक्शन पर फुट ओवरब्रिज पार करते यात्री।

जिले के बांदीकुई रेलवे जंक्शन पर 5 करोड़ रुपए की लागत से तैयार किए द्वितीय एंटी गेट व प्लेटफार्म नंबर 6 का निर्माण तो पूरा हो गया। जिसे तीन माह पहले रेलवे को हैंडओवर कर दिया फिर भी रेलवे ने इस प्लेटफार्म पर यात्री ट्रेनों की आवाजाही शुरु नहीं की। ऐसे में इस प्लेटफार्म से आगरा रुट की ओर जाने वाली यात्री ट्रेने 3 नंबर प्लेटफार्म से संचालन की जा रही हैं। इसका खामियाजा रोजाना 200 से अधिक यात्रियों को 30 फीट ऊंचे फुट ओवरब्रिज की 100 सीढियां पार कर जाना पड़ रहा है। इसमें सबसे ज्यादा परेशानी बुजुर्ग, महिला व बच्चों को हो रही है।

यहां रेलवे द्वारा जंक्शन के सेकेंड एंटी गेट पर नए भवन व प्लेटफार्म 6 का नए सिरे से निर्माण करवाया गया है। 3 साल तक काम चलने के बाद प्लेटफार्म 6 की लंबाई बढ़ाकर 620 व चौड़ाई 11 मीटर की गई। यही नहीं प्लेटफार्म पर कई आधुनिक सुविधाओं से लैस किया गया है। लेकिन रेलवे ने प्लेटफार्म पर अभी यात्री ट्रेन शुरू नहीं की। रेलवे अधिकारी जयपुर से निर्देश मिलने के इंतजार में हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं।

यात्री ट्रेनों को दूसरे प्लेटफार्म पर लेने से परेशानी
यहां प्लेटफार्म 6 पर निर्माण कार्य चलने के कारण रेलवे ने इस प्लेटफार्म पर आगरा की ओर से आने वाली यात्री ट्रेन जोधपुर-वाराणासी मरुधर एक्सप्रेस, वाराणसी-जोधपुर मरुधर एक्सप्रेस, अजमेर-आगराफोर्ट इंटरसिटी, आगराफोर्ट-अजमेर इंटरसिटी, ऋषिकेश-बांदीकुई पैसेंजर, बीकानेर-कोलकात्ता साप्ताहिक यात्री ट्रेनों का संचालन प्लेटफार्म नंबर तीन से शुरू कर दिया था। अब काम पूरा होने के बाद भी रेलवे इन ट्रेनों का संचालन प्लेटफार्म नंबर 6 से शुरु नहीं कर 3 से ही कर रहा है।

बुजुर्ग व दिव्यांगों को ज्यादा परेशानी
प्लेटफार्म 3 पर पहुंचने में हो रही परेशानी प्लेटफार्म 6 से 3 की दूरी 300 मीटर है। ऐसे में इस दूरी को पूरा करने के लिए यात्रियों को 30 फीट उंचाई की पुलिया की करीब 100 सीढिया चढ़कर प्लेटफार्म 3 पर जाना पड़ता है। सबसे ज्यादा परेशान बुजुर्ग व महिला यात्री प्लेटफार्म 6 से 3 पर जाने में सबसे ज्यादा परेशानी बुजुर्ग एवं महिला यात्रियों को होती है। महिला व बच्चों को चढ़ने व उतरने में गिरने का भय रहता है।

खबरें और भी हैं...