कंप्यूटर एजुकेशन:12वीं कक्षा में कंप्यूटर शिक्षा ऑप्शन, मगर जिले के 332 स्कूलों में कंप्यूटर टीचर ही नहीं

दौसाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शिक्षक नहीं होने के कारण छात्र अपने स्तर पर ही पढ़ने को मजबूर

12वीं कक्षा के छात्रों के लिए माध्यमिक शिक्षा बोर्ड अजमेर पिछले 18 साल से कंप्यूटर की ऑप्शन विषय के रूप में परीक्षा ले रहा है मगर जिले की 332 माध्यमिक सीनियर माध्यमिक स्कूलों में अभी तक कंप्यूटर शिक्षकों की स्थायी भर्ती नहीं की गई है, नतीजा 11वीं व 12वीं के छात्रों को कंप्यूटर अपने लेवल पर ही पढ़ने को मजबूर होना पड़ रहा है। जानकारी के अनुसार माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से 9वीं व 10वीं कक्षा में कंप्यूटर अनिवार्य विषय के रूप में पढ़ाया जा रहा है, जबकि 12वीं में कंप्यूटर ऐच्छिक विषय के रूप में होने के कारण यह परीक्षा के परिणाम को भी प्रभावित करता है। अपना परीक्षा परिणाम बेहतर पाने के लिए सरकारी स्कूलों में अध्ययनरत कंप्यूटर विषय के छात्रों को प्राइवेट संस्थानों में जाकर ट्यूशन करने को विवश होना पड़ रहा है।
जिले की 372 माध्यमिक स्कूलों में पिछले 18 साल से कंप्यूटर विषय अध्यापक के पद ही नहीं है जिसके चलते स्कूलों में अध्ययनरत बालक बालिकाओं को अन्य विषय केअध्यापकों के सामने या फिर प्राइवेट संस्थानों में जाकर अध्ययन करने को मजबूर होना पड़ रहा है। बताते है कि राज्य सरकार ने केंद्र सरकार के सहयोग से सूचना और संचार प्रौद्योगिकी सिटी योजना में जिले की फर्स्ट फेज में 53 स्कूलों को, सेकंड में 40 स्कूलों को, थर्ड फेज में 36,चौथे फेज में 22, 5वे फेज में 20 स्कूलों में कंप्यूटर लैब स्थापित किए गए थे। पहले से लेकर तीसरे फेज तक लगाए गए लैब नकारा हो चुके हैं।
कंप्यूटर शिक्षक के पद स्वीकृत नहीं
सहायक परियोजना अधिकारी रमसा रंग लाल मीणा ने बताया कि सूचना एवं प्राथमिक विभाग की ओर से पहले फेज से तीसरे फेज तक लगाए गए लैब पूरी तरह नकारा हो चुके हैं। कंपनी द्वारा कंप्यूटर शिक्षकों को भी हटा दिए गए हैं। जिले की 42 स्कूलों में लैब संचालित है। इनमें चौथे फेज में 22 व पांचवें फेज में लगाए गए 20 कंप्यूटर लैब संचालित है जिनमें कंपनी द्वारा कंप्यूटर अनुदेशक के पद पर कुछ कर्मचारी मानदेय पर लगा रखे हैं, शेष 332 स्कूलों में कंप्यूटर शिक्षक के पद स्वीकृत नहीं है।
जिले में 4 मॉडल स्कूलाें में कंप्यूटर शिक्षक
जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक घनश्याम मीणा का कहना है कि जिले की मात्र चार स्वामी विवेकानंद मॉडल स्कूलों में कंप्यूटर शिक्षक कार्यरत हैं। 372 सरकारी स्कूलों में कंप्यूटर शिक्षक के पद स्वीकृत नहीं होने के कारण शिक्षक नहीं हैं।

खबरें और भी हैं...