पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पर्व - डोलची होली:भाईदूज पर अभूतपूर्व उत्साह के साथ पावटा में खेली डोलची होली

दौसा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बल्लू शहीद की याद में होली की दूज को हदिरा मैदान में खेलते हैं होली

क्षेत्र के गांव पावटा में परंपरागत डोलची होली भाई दूज पर मंगलवार को खेली गई। आसपास के जिलों से आये दर्शकों ने होली का लुत्फ उठाया। दूरदराज तक प्रसिद्ध डोलची होली महवा उपखंड से 10 किलोमीटर दूरी पर स्थित पावटा गांव के हदिरा के मैदान में खेली गई। पानी से भरी चमड़े की डोलची से नंगे बदन पर पानी की बौछार,और युवाओं का उत्साह ही डोलची होली की मुख्य विशेषता है। प्रातः हवन क्रिया से होली की शुरुआत होकर गांव के भैरुजी के मंदिर पर होली के लिए आमंत्रण दिया गया। उत्साह के साथ दणगस एवं पीलवाड़ गोत्र के युवा हदिरा मैदान में डोलची खेलने के लिए आमने सामने हो गये। नजारा देखने लायक था,युवाओं का उत्साह देखकर ऐसा लग रहा था मानो युवा होली खेलने नही युद्ध केमैदान में आए हो। डोलची नामक चमड़े के पात्र से निकलने वाली पानी की बौछार सामने के योद्धा की पीठ को लहूलुहान कर रही थी, वह भी अपना बचाव कर दुगुने जोश से पानी से वार कर रहा था ऐसा लग रहा था मानो दो सेना आपस मे युद्ध कर रही हो। इसलिए इसे खूनी होली के नाम से जाना जाता है। करीब दो घंटे चले इस इस खेल को गांव के बुजुर्गों की पहल पर समापन कराया गया। डोलची के बाद देवर भाभी की होली खेली गई। इस अवसर पर पूर्व जिला प्रमुख अजीत सिंह, अजय बोहरा, रामनिवास गोयल, सरपंच प्रतिनिधि मुकेश शर्मा, हरदेव पावटा, पूर्व सरपंच हनुमान सिंह जींद, टीकम सिंह गुर्जर, मुंशी खावदा सहित गांव के पंच पटेल व प्रबुद्ध गण मौजूद थे।धार्मिक मान्यता पर आधारित है होलीपावटा की डोलची होली धार्मिक मान्यता से जुड़ी हुई हैं।ग्रामीणों के गांव के बल्लू शहीद की याद में यह डोलची होली मनाई जाती है। वर्षों पूर्व आपसी संघर्ष में बल्लू सिंह का सिर दुश्मनों ने काटकर धड़ से अलग कर दिया, लेकिन बल्लू सिंह ने बिना सिर के ही दुश्मनों से लोहा लिया, तभी से ही यहां के लोग बल्लू शहीद की याद में होली की दौज को हदिरा मैदान में डोलची खेलते हैं। एक बार गांव में किसी कारण से गांव में होली नही खेली गई तो गांव में अकाल पड़ गया, पानी के अभाव में मवेशी प्यासे मर गए, ग्रामीणों ने बल्लू शहीद के स्थान पर जाकर मन्नत की और हर वर्ष डोलची खेलने की कसम खाई तब जाकर अकाल समाप्त हुआ।पुलिस प्रशासन रहा सतर्कसलेमपुर थाना प्रभारी मय जाब्ते के सुबह से ही मौके पर ही डटे रहे। ग्राम पंचायत पावटा की ओर से गाव में डोलची होली को लेकर व्यापक इंतजाम किए गए।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें