पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कैसे बुझे प्यास:पेयजल लाइनें हुई जर्जर, जगह-जगह अवैध कनेक्शन, पानी की हो रही बर्बादी

दाैसा4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • दौसा में अंतिम छाेर तक कम दबाव से पहुंच रहा है पानी

शहर में जरूरत से एक तिहाई ही पानी मिलने से पेयजल संकट गहरा गया है। वहीं अधिकांश पेयजल पाइप लाइनें करीब चार दशक पुरानी हैं। इनमें कई पेयजल लाइन जर्जर हाेने से आए दिन लीकेज हाे रहे हैं। इनसे पानी की बर्बादी हाे रही है।

शहर में 159 किमी पेयजल पाइप लाइन हैं। इनमें 19 किमी मुख्य राइजिंग लाइन और 140 किमी मुख्य राइजिंग व वितरण पाइप लाइन हैं। इनमें कई पेयजल लाइनें जर्जर हाे गई। शहर में पूर्व की आबादी के अनुसार पाइप लाइन डाली गई थी। अब आबादी बढ़ने से नल कनेक्शन बढ़ गए हैं। जबकि पाइप लाइन वही है। इससे अंतिम छाेर तक कम दबाव से पानी पहुंच रहा है। कई जगह पेयजल लाइन चार-पांच फुट गहरी हाे गई। इससे पाइप लाइन में लीकेज हाेने पर पता नहीं चल पाता। पाइप लाइन लीकेज हाेने पर गंदे पानी की शिकायतें आती है।

डीपीआर सर्वे के लिए निविदा प्रक्रियाधीन
शहर में पाइप लाइनाें का पुराना नेटवर्क है। नई काॅलाेनियां पेयजल याेजना से जुड़ी हुई नहीं हैं। अब ईसरदा प्राेजेक्ट के आधार पर दाैसा में पुनर्गठित याेजना बनाई जाएगी। इसके लिए डीपीआर सर्वे के लिए निविदा प्रक्रियाधीन है।
-हनुमान प्रसाद मीणा, एईएन जलदाय विभाग, दाैसा
फैक्ट फाइल

  • शहर में राेजाना सप्लाई के लिए पानी की जरुरत: 110 लाख लीटर
  • राेजाना मिल रहा है पानी: 40 लाख लीटर
  • नल कनेक्शन: 12383
  • पानी की सप्लाई: 96 से 120 घंटे में
  • टैंकर से सप्लाई: 110 से 115

30 अवैध कनेक्शन काटे
जलदाय विभाग की टीम ने दाे दिन में 30 अवैध नल कनेक्शन काटे हैं। एईएन हनुमान प्रसाद मीणा ने बताया कि इंदिरा काॅलाेनी में दाे दिन में 30 अवैध नल कनेक्शन काटे हैं। काॅलाेनी में दस फुट की दूरी में 20 अवैध नल कनेक्शन मिले। अवैध नल कनेक्शन काट दिए। उन्हाेंने बताया कि अभियान जारी रहेगा।

इन काॅलाेनियाें में हैं पुरानी जर्जर पेयजल लाइन
माणक चाैक, तिवाड़ी माेहल्ला, हलवाई बाजार, रघुनाथ माेहल्ला, व्यास माेहल्ला झालरा का बास, किला सागर, सागर माेहल्ला, कापड़ी माेहल्ला, खारी काेठी माेहल्ला, नागाेरी माेहल्ला, शेखान माेहल्ला, खटीकान माेहल्ला, बड़ाबास, झगड़ेश्वर माेहल्ला सहित कई कालोनियों में पेयजल लाइन करीब चार दशक पुरानी हैं। इनमें कई पाइप लाइनें जर्जर हाे गई। इनसे पानी की बर्बादी हाेती है।

टैंकराें से खरीदकर पीना पड़ रहा पानी
शहर में जरूरत से एक तिहाई ही पानी मिल रहा है। इससे चार-पांच दिन में पानी की सप्लाई हाे रही है। शहर में राेजाना सप्लाई के लिए 110 लाख लीटर पानी की जरूरत है, लेकिन इन दिनाें बीसलपुर से 23 लाख लीटर व बाणगंगा पंप हाउस से राेजाना 17 लाख लीटर पानी मिल रहा है। जरूरत से एक तिहाई ही पानी मिलने से शहर में 96 से 120 घंटे में पानी की सप्लाई हाे रही है। इससे पानी का संकट गहरा गया है। लाेगाें काे टैंकराें से पानी खरीदकर पीना पड़ रहा है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति पूर्णतः अनुकूल है। बातचीत के माध्यम से आप अपने काम निकलवाने में सक्षम रहेंगे। अपनी किसी कमजोरी पर भी उसे हासिल करने में सक्षम रहेंगे। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और...

    और पढ़ें