पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कब साकार होंगी बजट घोषणाएं:ईस्टर्न कैनाल परियोजना का काम 3 साल बाद भी शुरू नहीं हुआ, एक साल में खाद्य पदार्थ जांच लैब के लिए प्रस्ताव ही तैयार नहीं

दौसा12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कब साकार होंगी बजट घोषणाएं... आमजन के लिए जरूरी पानी, चिकित्सा, सड़क व शहीद स्मारक की योजनाएं भी अधूरी
  • 24 फरवरी को आ रहे बजट से दौसा जिले को भी उम्मीद है कि कुछ मिलेगा, लेकिन इस उम्मीद से ज्यादा उन वादों के पूरा होने का इंतजार है जो पिछले तीन-चार वर्षों में सरकारों ने बजट में किए। इस बजट में भी पिछली बार की तरह जिले को थोथी घोषणाएं नहीं चाहिए, पिछली जो योजनाएं अधूरी हैं पहले उनको तो धरातल पर ला दीजिए...

कांग्रेस सरकार तीसरी बार 24 फरवरी को बजट पेश करेगी। इस बजट से दौसा जिले के लोगों को सड़क, सीवरेज, कृषि उपज मंडी, चिकित्सा, परिवहन सहित अन्य विकास योजनाओं के प्रोजेक्टों को हरी झंडी मिलने की उम्मीद है। पर लोगों के मन में यह बात खटक रही है कि सरकारघाेषणाएं पेश करने से पहले जनता से जुड़ी पहले की जो अधूरी योजनाएं हैं उनको तो धरातल पर ला दे, ताकि उनका फायदा मिले।हर वर्ष बजट में प्रत्येक जिले और शहर के लिए विभिन्न घोषणाएं तो कर दी जाती हैं, लेकिन इन घोषणाओं की क्रियान्विति समय पर नहीं होती है। स्थिति यह है कि भाजपा शासन में स्वीकृत कई योजनाएं आज तक पूरी नहीं हो पाई हैं। कांग्रेस सरकार की भी कईयोजनाएं अधूरी हैं। ऐसे में लोगों की मांग है कि बजट में यह प्रावधान किया जाए कि हर योजना के पूरे होने की समय सीमा तय कर दी जाए, उसे उसी समय सीमा में पूरा किया जाना चाहिए। तभी सही अर्थों में बजट के दौरान मिलने वाली सौगातों का जनता को लाभ मिल सकेगा। इस बार जनता सरकार से चाहती है कि बजट में नई घोषणाएंकरने की बजाय पिछले सालों के बजट की अधूरी योजनाओं को पहले धरातल पर लाए।

तीन साल में काम ही शुरू नहीं हुआ

वर्ष 2017-18 के बजट में ईस्टर्न राजस्थान कैनाल परियोजना को राष्ट्रीय महत्व की योजना घोषित कराने की घोषणा की गई थी। इस योजना में चंबल सहित अन्य बड़ी नदियों और बांधों को जोड़कर पूर्वी राजस्थान के 13 जिलों में पानी पहुंचाने की बात है। सरकार ने सेंट्रल वाटर कमीशन से इसे नेशनल प्रोजेक्ट घोषित करने की अनुमति मांगी है। 37 हजार करोड़ की इस योजना से बांधों व नदियों में पानी मिलने से कायापलट हो सकती थी। अभी तक कोई कार्य नहीं हुआ है। सांसद डॉ. किरोड़ी लाल मीणा ने इस योजना में दौसा व सवाई माधोपुर जिले के वंचित क्षेत्रों को शामिल करने की मांग उठाई है। विधायक मुरारी लाल मीणा ने धौलपुर के बजाय दौसा या जमवारामगढ़ में कमांड एरिया बनाने की मांग की है।^अभी तक दौसा जिले में इस योजना के तहत कोई कार्य शुरू नहीं हुआ है।-केदार मीणा, एक्सईएन, जल संसाधन विकास

अभी प्रस्ताव ही तैयार नहीं हुआ

गत बजट में हुई मिलावटी खाद्य पदार्थों की जांच के लिए लैब खोलने की घोषणा पूरी नहीं हुई है। इसमें जांच के बाद ऑनलाइन रिपोर्ट मिलने की घोषणा की गई थी। लैब होने से जन स्वास्थ्य के लिए बड़ा कदम साबित होता। प्रस्ताव तैयार नहीं होने के कारण घोषणा अभी अधूरी है। सीएमएचओ डॉ. मनीष चौधरी का कहना है कि कार्यालय परिसर में 1000 वर्ग फुट जमीन चिह्नित कर ली गई है। लैब की अनुमानित लागत का एस्टीमेट बनाकर जल्दी भेजा जाएगा।-कमाई राम मीणा, एईएन

जगह चिह्नित पर बजट ही नहीं

दौसा जिला मुख्यालय पर शहीद स्मारक बनाने की 2020-21 के बजट में घोषणा की गई थी। यह स्मारक सीमा पर शहीद हुए जवानों की याद में बनाया जाना था। इस स्मारक का काम अभी तक शुरू नहीं किया जा सका है। शहीद स्मारक नहीं बनने से नागरिकों एवं सैनिकों में भारीनिराशा भी है। अभी तक अधिकारियों के पास शहीद स्मारक के बारे में काेई आदेश नहीं आए है। पूर्व सैनिकों के जिला अध्यक्ष विजेंद्र सिंह का कहना है कि जिले में शहीद स्मारक निर्माण के लिए नेताओं व अधिकारियों के खूब चक्कर लगा चुके हैं। लेकिन अभी तक इसका निर्माण कार्य शुरू नहीं हो सका है। कलेक्ट्रेट परिसर में भवन के मुख्य द्वार के सामने भूमि चिह्नित कर ली गई है। लेकिन अभी तक इसका कोई बजट भी नहीं आया है।^शहीद स्मारक निर्माण के बारे में कोई आदेश नहीं आए हैं। न ही कोई बजट जारी हुआ है।-प्रशांत कुमार, एईएन, पीडब्ल्यूडी

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आपकी सकारात्मक और संतुलित सोच द्वारा कुछ समय से चल रही परेशानियों का हल निकलेगा। आप एक नई ऊर्जा के साथ अपने कार्यों के प्रति ध्यान केंद्रित कर पाएंगे। अगर किसी कोर्ट केस संबंधी कार्यवाही चल र...

    और पढ़ें