• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Dausa
  • Farmers Suffering From Lack Of DAP Will Get Relief, Sowing Of Mustard Will Increase, Fertilizers Will Also Be Available In Purchase And Sale Cooperatives

आज आएगा डीएपी और इफ्को यूरिया:डीएपी की कमी से जूझ रहे किसानों को मिलेगी राहत, सरसों की बुवाई में आएगी तेजी, क्रय-विक्रय सहकारी समितियों में भी मिलेगा खाद

दौसा18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दौसा क्रय-विक्रय सहकारी समिति। - Dainik Bhaskar
दौसा क्रय-विक्रय सहकारी समिति।

जिले में सरसों की बुवाई का दौर तेज होते ही डीएपी खाद की किल्लत शुरू हो गई है। क्रय-विक्रय सहकारी समिति व ग्राम सेवा सहकारी समितियों में डीएपी नहीं आने से किसान इधर-उधर चक्कर लगाते देखे जा रहे हैं। खाद नहीं मिलने से किसान निराश लौट रहे हैं तो निजी दुकानों से मजबूरन महंगे दामों में खरीदकर बुवाई कर रहे हैं। कृषि विभाग की माने तो इन दिनों सरसों की बुवाई तेज होने के साथ ही जिले में अब तक 19 हजार हैक्टेयर में सरसों की बुवाई हो चुकी है।

क्रय-विक्रय सहकारी समितियों में डीएपी आने की उम्मीद लगाए बैठे किसानों को खाद की कमी के चलते परेशान होना पड़ रहा है। हालांकि कई किसान डीएपी लेने समिति पहुंच रहे हैं, लेकिन खाद नहीं मिलने से किसान निराश होकर लौट रहे हैं। वहीं निजी दुकानों पर भी किसानों को डीएपी नहीं मिल रहा। स्थानीय ग्राम सेवा सहकारी समितियों में डीएपी नहीं हाेने से किसान खाद लेने के लिए दौसा पहुंचे रहे हैं।

आज होगी डीएपी और यूरिया की आपूर्ति

जिले में शुक्रवार को 300 एमटी डीएपी आएगा। इसमें दौसा में 150 एमटी, लालसोट में 100 एमटी व महुवा-मंडावर में 50 एमटी डीएपी शुक्रवार तक आ जाएगा। इसके साथ ही इफ्को यूरिया की खेप भी आएगी। वहीं गीजगढ़, कालाखो अंबाड़ी, समलेटी, मंडावर, बैजपाड़ा, लोटवाडा, आभानेरी, पीचूपाड़ा, बांदीकुई, सिकंदरा, बिलोना कलां समितियों में प्रति समिति 700 से 900 कट्टे तक यूरिया आएगा। इससे किसानों को बुवाई करने में आसानी होगी व निजि दुकानों से महंगे दामों में खाद नहीं खरीदना पड़ेगा।

सिंगल सुपर फॉस्फेट का उपयोग करें किसान
जिले में डीएपी की किल्लत के बीच उपनिदेशक शंकरलाल मीणा ने किसानों काे फसलों में फॉस्फोरस उर्वरक डीएपी की जगह सिंगल सुपर फॉस्फेट उर्वरक का उपयोग करने की सलाह दी है। बताया कि सिंगल सुपर फॉस्फेट एक फॉस्फोरस युक्त उर्वरक है, जिसमें फसलों के लिए 16 प्रतिशत फॉस्फोरस व 11 प्रतिशत सल्फर की मात्रा पाई जाती है।

इसमें उपलब्ध सल्फर की मात्रा के कारण यह उर्वरक तिलहनी व दलहनी फसलों के लिए अन्य उर्वरकों की अपेक्षा लाभदायक होता है। यह फसलों के लिए कैल्शियम पोषक तत्व की भी पूर्ति करता है। उन्होंने बताया कि एसएसपी उर्वरक डीएपी उर्वरक की अपेक्षा सस्ता है। बाजार में आसानी से उपलब्ध हो जाता है।

खबरें और भी हैं...