रबी फसलों का बढ़ेगा उत्पादन:दूसरे दिन भी मावठ, माेरेल में 15, दाैसा में 9, बांदीकुई में 6 मिमी बारिश, सरसों व गेहूं की फसल को फायदा

दौसा21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • तापमान 2 डिग्री गिरा, दिनभर छाया रहा कोहरा, दृश्यता मात्र 10 फीट रही

जिले में शीतलहर के बीच हल्की बारिश का दाैर गुरुवार काे दूसरे दिन भी जारी रहा। जिले में गुरुवार सुबह 8 बजे तक सर्वाधिक बारिश माेरेल पर 15 मिमी दर्ज की गई। जबकि, दाैसा में 9 व बांदीकुई में 6 मिमी बारिश हुई। मावठ हाेने से फसलाें काे फायदा हाेगा, सरसों व गेहूं की खेती लहलहा उठी। इस मौसम से रबी फसलाें का उत्पादन भी बढ़ेगा। जिले में बुधवार रात काे रुक-ुककर बारिश हुई। गुरुवार काे भी हल्की बारिश हुई। इससे कड़ाके की सर्दी रही। मावठ से सरसाें, चना, गेहूं व जाै की फसल में फायदा हाेगा। जिले में इस बार 1 लाख 88 हजार हैक्टेयर में रबी की फसल की बुवाई हुई है।

इस बार सरसाें व चना की बुवाई लक्ष्य से अधिक हुई है। सरसाें की बुवाई का 62 हजार हैक्टेयर के मुकाबले 70 हजार 510 हैक्टेयर व चना की बुवाई 25 हजार हैक्टेयर के लक्ष्य के मुकाबले 29 हजार 661 हैक्टेयर में हुई है। असिंचित क्षेत्र में सरसाें व चना की फसल के लिए यह मावठ अमृत है। बारिश से फसलाें में पाले व चेंपा के नुकसान से भी बचाव हाे सकेगा। कृषि अधिकारी (प्रशिक्षण) अशाेक कुमार मीना ने बताया कि मावठ गेहूं, जाै, सरसाें, चना की फसल के लिए लाभदायक है। किसानों का मानना है कि बारिश से फसलाें का औसतन 10 फीसदी ज्यादा उत्पादन बढ़ेगा। गुरुवार काे पारा 2 डिग्री गिरकर 17 सेल्सियस पर पहुंच गया। दृश्यता 10 फीट तक रह गई है। कहां- कितनी बारिश हुई जिले में गुरुवार सुबह 8 बजे तक बीते 24 घंटे में सर्वाधिक बारिश माेरेल में 15 मिमी दर्ज की गई। दाैसा में 9, बांदीकुई में 6, राहुवास में 4, सैंथल में 3, लालसाेट में 3, रामगढ़ पचवारा में 3, रेडिया, महवा, सिकराय व लवाण में 2-2 मिमी तथा बसवा में 1 मिमी बारिश हुई। जिले में रबी फसल फसल लक्ष्य बुवाई गेहूंं 85000 72320 जाै 6000 4825 सरसाें 62000 70510 चना 25000 29661 तारामीरा 4000 2845 हैक्टेयर

खबरें और भी हैं...