हंगामा:जिला परिषद की पहली ही बैठक में माइक नहीं चला, महिलाओं काे सीट नहीं मिली, भाजपा के जनप्रतिनिधियों ने किया बहिष्कार, 2 विधायक भी चले गए

दौसा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दौसा|साधारण सभा में अव्यवस्थाओं को लेकर विरोध करते सदस्यों को समझाते विधायक मुरारीलाल मीणा। - Dainik Bhaskar
दौसा|साधारण सभा में अव्यवस्थाओं को लेकर विरोध करते सदस्यों को समझाते विधायक मुरारीलाल मीणा।
  • दाैसा व बांदीकुई विधायक और भाजपा सदस्याें के जाने के बाद भी सिकराय विधायक ममता भूपेश बाेलीं- अपन ही चर्चा कर लेते हैं

जिला परिषद सदस्य और फिर जिला प्रमुख के चुनाव से शुरू हुई कांग्रेस में उठापटक बुधवार काे साधारण सभा की पहली बैठक में भी देखने काे मिली। माइक नहीं चलने व एक महिला जनप्रतिनिधि काे सीट नहीं मिलने जैसी आम बात से खफा हाेकर विधायक मुरारीलाल मीणा साधारण सभा से बाहर आ गए। बाेले-व्यवस्था सुधार लाे फिर 2-4 दिन बाद बैठक बुला लेना। विधायक मीणा के पीछे-पीछे बांदीकुई विधायक गजराज खटाणा और उसके पीछे भाजपा सदस्य भी उठकर चल दिए। भाजपा की जिला प्रमुख प्रत्याशी नीलम गुर्जर ने ताे यहां तक आराेप लगा दिया कि यह साधारण सभा नहीं हाेकर राज्य मंत्री ममता भूपेश की व्यक्तिगत मीटिंग थी। बावजूद इसके मंत्री भूपेश वहीं बैठीं रही। बाेली- चलाे सभा का ताे बहिष्कार हाे गया अब अपन ही चर्चा कर लेते हैं।

भाजपा की नीलम ने जड़ा मंत्री ममता पर व्यक्तिगत सभा का आराेप

दाैसा और बांदीकुई विधायक सभा से बाहर निकलने पर पीछे-पीछे भाजपा की जिला प्रमुख की प्रत्याशी रही नीलम गुर्जर के साथ पार्टी के सदस्य भी बाहर निकल गए। सभा से बाहर निकलने पर नीलम गुर्जर ने मंत्री ममता भूपेश पर निशाना साधा कि यह साधारण सभा नहीं हाेकर मंत्री ममता भूपेश की व्यक्तिगत सभा थी। उन्हाेंने कहा कि जनप्रतिनिधियाें की सीट पर मंत्री भूपेश के कुछ लाेग पहले से बैठे हुए थे। सभा में जनप्रतिनिधियाें के लिए बैठने और माइक आदि की काेई व्यवस्था नहीं थी। कांग्रेस की आपसी फूट का ही परिणाम है कि ग्रामीण और किसानाें काे फसल खराबी का मुअसवजा नहीं मिला। यह भी कहा कि अधिकारी भी निर्धारित समय से एक घंटे देरी से पहुंचे।

बैठक की तैयारियां रही अधूरी, भाजपाई खफाजिला प्रमुख हीरालाल सैनी की अध्यक्षता में यह पहली बैठक थी। श्राद्ध पक्ष की अष्टमी के दिन आयाेजित पहली ही बैठक में साैंण खराब हाे गया। जिला परिषद सभागार में आयाेजित बैठक में पहली एजेंडा पीडब्ल्यूडी का था, जिस पर कर्मचारी जवाब दे रहे थे। उसी दाैरान माइक में गड़बड़ आ गई। माइक व्यवस्था काे सुधारने के लिए विधायक मुरारीलाल मीणा से लेकर सदस्याें और सीईओं तक ने काेशिश की, लेकिन 8-10 मिनट तक जूझने के बावजूद माइक ठीक से नहीं चला। वहीं एक महिला जनप्रतिनिधि काे बैठक में सीट नहीं मिली। माइक और सीट नहीं मिलने की बात से नाराज हाेकर विधायक मुरारीलाल मीणा बाहर अा गए थे। कहा, जिला परिषद की यह पहली मीटिंग थी, जिसके लिए सही तैयारियां नहीं की गई। इसके लिए प्रशासन की गलती है। हमने तय किया कि यह बैठक दुबारा बुलाई जाए।

खबरें और भी हैं...