पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Dausa
  • Municipality Will Spend 65 Lakhs On Waste Disposal In Bandikui, 15 Thousand Cubic Meters Of Waste Accumulated Over 25 Years Will Be Solved In 2 Months

राहत की खबर:बांदीकुई में कचरा निस्तारण पर पालिका खर्च करेगी 65 लाख, 2 माह में 25 साल से जमा 15 हजार क्यूवीक मीटर कचरे का होगा हल

दौसा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बांदीकुई | कचरा निस्तारण के लिए लगाई जा रही मशीन। - Dainik Bhaskar
बांदीकुई | कचरा निस्तारण के लिए लगाई जा रही मशीन।
  • घर-घर कचरा संग्रहण योजना में शहर से रोज 7 टन कचरा एकत्र हो रहा, पालिका प्रशासन ने मुंबई की एक कंपनी को दिया ठेका

बांदीकुई शहर में लंबे समय से कचरा निस्तारण को लेकर चल रहा इंतजार अब जल्दी ही पूरा होने जा रहा है। इसके लिए नगरपालिका ने 65 लाख रुपए में मुंबई की एक कंपनी को ठेका दिया है। ये कंपनी दो माह में यहां पड़े करीब 15 हजार क्यूवीक कचरे का निस्तारण करेगी। इसके लिए कंपनी की मशीन भी यहां आ चुकी है। जल्दी ही यह चालू हो जाएगी। कचरे का निस्तारण होने से यहां 20 साल से फैल रहे प्रदूषण से मुक्ति मिलेगी पर्यावरण भी अच्छा होगा।शहर में नगरपालिका की ओर से घर-घर कचरा संग्रहण योजना में रोजाना शहर में से 7 टन कचरा एकत्रित किया जाता है।

मगर इसके निस्तारण को लेकर अभी तक कोई ठोस प्रबंध नहीं हुए। इससे शहर के प्रवेशद्वार सिकंदरा रोड श्यालावास पंपहाउस के पास कचरे का पहाड़नुमा ढेर लग चुका है जिससे दुर्गध भी उठ रही है।नगरपालिका चेयरमैन इंद्रा बैरवा व अधिशासी अधिकारी डॉ. बनवारीलाल मीणा लंबे समय से कचरा निस्तारण के लिए प्रयासरत थे। कचरा निस्तारण के लिए नगरपालिका ने मुंबई की एक निजी कंपनी को इसका ठेका दिया है। पंपहाउस के पास फायर स्टेशन पर कचरा निस्तारण के लिए कंपनी ने ट्रोमिल मशीन लगा दी है। शुरू करने के लिए कंपनी के कर्मचारी जुटे हुए है। उन्होंने बताया कि जल्दी ही मशीन को शुरु कर कचरे का निस्तारण किया जाएगा।

बायोमाइनिंग पद्धति से होगा कचरे का निस्तारण, कचरे से बनी राख को नगरपालिका लेगी उपयोग

इस मशीन से बायोमाइनिंग पद्वति से कचरे का निस्तारण किया जाएगा। निस्तारण के दौरान मशीन प्लास्टिग को अलग करेगी। अन्य कचरे से राख बना देगी। एक माह में करीब 300 टन तक कचरे का निस्तारण यह मशीन कर सकती है। कचरे से बनी राख को नगरपालिका उपयोग में लेगी। राख से जहां भी भरत की जरूरत होगी। वहां इसे डलवाया जाएगा। इसके अलावा मशीन से अलग होने वाले प्लास्टिक का ठेकेदार जयपुर में निस्तारण कराएगा।

शहर के मुख्य प्रवेशद्वार पर 25 साल से जमा है कचरा पालिका लंबे समय से कचरे को शहर के प्रवेशद्वार सिकंदरा रोड पंपहाउस के पास एकत्रित कर रही है। कचरे से दुर्गध उठने लग गई थी। इससे प्रदूषण भी फैल रहा था। लोग इससे मुक्ति के लिए कई बार आवाज भी उठा चुके थे। लेकिन अब इसका स्थायी समाधान होने से प्रदूषण से मुक्ति मिलेगी।

खबरें और भी हैं...