पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एनएसवी चैंपियन:जिले के हर गांव में होंगे एनएसवी चैंपियन, मिलेगी प्रोत्साहन राशि

दौसा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • परिवार नियोजन के लिए पुरुषों को किया जाएगा प्रेरित, जिले में 10 से होंगे सम्मेलन

परिवार कल्याण कार्यक्रम के तहत परिवार नियोजन सेवाओं में पुरुषों की भागीदारी बढ़ाने के लिए जिले के प्रत्येक गांव में एनएसवी चैंपियन बनाए जाएंगे। अब तक परिवार नियोजन में महिलाओं की भागीदारी अधिक होती थी, लेकिन चिकित्सा विभाग द्वारा इस बार परिवार नियोजन में पुरुषों की भागीदारी बढ़ाने के लिए गांवों में पुरुष सहभागिता सम्मेलन किए जाएंगे। इसमें एनएसवी चैंपियन्स और एनएसवी मोटीवेटर्स का चयन किया जाएगा। इन दोनों को विभाग की ओर से प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी। सम्मेलनों को लेकर सीएमएचओ ने सभी ब्लॉक चिकित्सा अधिकारियों को एक्शन प्लान भेजने के लिए निर्देशित किया है।ऐसे चुनेंगे रोल मॉडलसम्मेलनों में जहां विभाग के अधिकारी पुरुषों को परिवार नियोजन के साधनों जैसे एनएसवी यानि पुरुष नसबंदी और कंडोम के उपयोग के लिए प्रेरित करेंगे, वहीं प्रत्येक गांव से एनएसवी चैंपियन और एनएसवी मोटीवेटर्स को भी चुना जाएगा।

एनएसवी चैंपियन उन्हें चुना जा सकेगा, जिन्होंने एनएसवी को अपनाया है और मोटीवेटर्स एएनएम, स्वास्थ्य मित्र या विभागीय कड़ी में से कोई भी हो सकता है। इन दोनों को विभाग की ओर से प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी। इनका मुख्य कार्य सम्मेलन में आए पुरुषांे को एनएसवी और कंडोम के उपयोग के लिए प्रेरित करना होगा।प्रत्येक ब्लाॅक से 20 एनएसवी चुनंेंगेजिल के पांचों ब्लॉकों में 100 चैंपियन चुने जाएंगे जिसमें प्रत्येक ब्लॉक में 20 एनएसवी चैंपियन चुने जाएंगे। इस प्रकार प्रत्येक वर्ष कम से कम 5 एनएसवी लाभर्थियों को प्रेरित करने वाले चिकित्सा अधिकारी, एएनएम, आशा या स्वैच्छिक कार्यकर्ता को एनएसवी मोटीवेटर के रूप में पहचाना जाएगा।कहां कितने होंगे सम्मेलनप्रत्येक ब्लॉक में 10 गांवों में पुरुष सहभागिता सम्मेलन कराने का लक्ष्य रखा गया है।

एक वित्तीय वर्ष में प्रत्येक ब्लॉक में एक ही गांव में सम्मेलन आयोजित किया जा सकेगा। गांवों में सम्मेलन आयोजन की जिम्मेदारी एएनएम को दी गई है। स्वास्थ्य मित्र भी इसमें सहयोग करेंगे।इन बिंदुओं पर होगी चर्चासम्मेलनों में सीमित परिवार के लाभ, विवाह की न्यूनतम आयु, परिवार नियोजन के साधनों की उपलब्धता व उपयोगिता, 2 बच्चों के बीच अंतर, परिवार कल्याण कार्यक्रमों के तहत दी जाने वाली क्षतिपूर्ति राशि, पुरुष नसबंदी और महिला नसबंदी में अंतर आदि के बारे में चर्चा की जाएगी। एनएसवी चैंपियन एनएसवी के बारे में अपने अनुभव सम्मेलनों में साझा करेंगे, ताकि और भी पुरुषों को इसके लिए प्रेरित किया जा सके।

इनका कहना है: जिले में परिवार नियोजन में पुरुषों की सहभागिता बढ़ाने के लिए सभी ब्लाकों के गांवों में पुरुष सहभागिता सम्मेलन होंगे। इसके तहत परिवार नियोजन में पुरुषों की भागीदारी बढ़ाने के लिए उन्हें प्रेरित किया जाएगा।-डाॅ. मनीष चौधरी, सीएमएचओ, दौसा^परिवार नियोजन में पुरुषों की सहभागिता बढ़ाने के िलए जिले में 10 सितंबर से सम्मेलन होंगे। इसमें शामिल सहभागियों के लिए अल्पाहार की व्यवस्था की जाएगी और एनएसवी चैंपियन और मोटीवेटर्स को प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी।-डाॅ.सुभाष बिलोनिया, डिप्टी सीएमएचओ

खबरें और भी हैं...