विरोध के आगे झुका रेलवे प्रशासन:6 महिने से बंद फाटक खुलने से 15 गांवों के लोगों को मिलेगी राहत, ROB निर्माण पूरा करने की मांग

दौसाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बांदीकुई में बीती रात धौली गुमटी खुलने के बाद शुरू हुआ आवागमन। - Dainik Bhaskar
बांदीकुई में बीती रात धौली गुमटी खुलने के बाद शुरू हुआ आवागमन।

धरना, प्रदर्शन व आंदोलनों के बाद आखिरकार रेलवे प्रशासन की कुंभकर्णी नींद टूट गई है। रेलवे ने बांदीकुई शहर के पास करीब 6 महिने पहले बंद किए धौली गुमटी फाटक को फिर से खोल दिया है। रेलवे के आदेश के बाद बीती देर शाम फाटक खुलने के साथ ही लोगों की आवाजाही शुरू हो गई है।

इससे अलवर की ओर आवाजाही करने समेत एक दर्जन से ज्यादा गांवों के लोगों को राहत मिलेगी। साथ ही आसपास के 15 गांवों के सैकडों स्कूली बच्चों को अब स्कूल जाने के लिए रेल पटरी को पार करने की मजबूरी नहीं होगी। धौली गुमटी रेलवे फाटक पर ओवरब्रिज निर्माण चल रहा है। ऐसे में रेलवे ने बिना ओवरब्रिज बने धौली गुमटी रेलवे फाटक को बंद कर दिया था। यह रेलवे फाटक शहर से अलवर जाने वाले प्रमुख मार्ग पर स्थित होने से लोग परेशान थे। यही नहीं आसपास के गांवों के रोजाना 500 से अधिक स्कूली बालकों को रोजाना जान जोखिम में डालकर रेल पटरी पार कर जाना पड़ रहा था।

दिनभर मरम्मत, देर शाम खोला

धौली गुमटी रेलवे फाटक को खोलने के आदेश मिलने के बाद सोमवार को दिनभर फाटक खोलने का काम चला। साफ-सफाई कराई गई, इसके बाद बीती देर शाम इसे फिर से लोगों के लिए खोल दिया गया। फाटक खुलने के बाद लोगों का आवागमन पहले की तरह सुचारू हो गया है। ऐसे में आसपास के गांवों के लोगों को अवैध रूप से पटरी कर दूसरी ओर नहीं जाना पड़ेगा। इससे उनकी जान का खतरा बना रहा था। अब इन लोगों को राहत मिलेगी, लेकिन ओवरब्रिज निर्माण पूरा करने की मांग भी जोर पकड़ेगी।

फाटक खुलने से पूर्व साफ-सफाई करते मजदूर।
फाटक खुलने से पूर्व साफ-सफाई करते मजदूर।

लोगों ने किए थे आंदोलन

ओवरब्रिज निर्माण के चलते बंद किए धौली गुमटी रेलवे फाटक को फिर से खुलवाने के लिए आसपास के लोगों ने कई बार आंदोलन किए थे। भाजपा नेता सुनीता सैनी के नेतृत्व में स्थानीय लोगों ने धरना-प्रदर्शन किए। शहर के प्रबुद्ध लोगों ने भी सांसद-विधायक से फाटक खुलवाने की गुहार लगाई थी। पिछले दिनों सांसद जसकौर मीणा की डीआरएम के साथ मीटिंग में भी इसका मुद्दा पर उठने पर डीआरएम ने आश्वासन दिया था। वहीं दैनिक भास्कर ने भी मुद्दे को प्रमुखता से उठाया था। इसके बाद रेलवे ने फाटक खोलने के आदेश दिए।

फाटक बंद किए बगैर ओवरब्रिज निर्माण पूरा करें
वहीं धौली गुमटी रेलवे फाटक खुलवाने की मांग को लेकर हुए आंदोलनों का कमान संभालने वाली भाजपा नेता सुनीता सैनी ने खुशी जाहिर की है। उन्होंने कहा कि लोगों के साथ हमने धरना-प्रदर्शन किए। केन्द्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल से मिलकर लोगों की समस्या को बताया। इसके बाद रेलवे ने फाटक खोलने का निर्णय लिया है। यह जनभावनाओं की जीत है। लेकिन अब रेलवे को दोबारा फाटक बंद किए बगैर ओवरब्रिज का निर्माण जल्द पूरा करना चाहिए। इसके साथ ही आगरा फाटक की समस्या का भी हल निकलना चाहिए।

नौनिहालों की मजूबरी, जोखिम में जान:5 साल बाद भी अधूरा ROB निर्माण, फाटक बंद होने से पटरी कूदकर स्कूल जाने की मजबूरी