नरेगा में भ्रष्टाचार:जनप्रतिनिधि बोले- नरेगा में अफसरों की सांठ-गांठ से हो रहा है भ्रष्टाचार

दौसा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दौसा ग्रामीण|पंचायत समिति की साधारण सभा में पानी के मुद्दे उठाकर अधिकारियों को घेरते पंचायत समिति सदस्य शंकर मीणा। - Dainik Bhaskar
दौसा ग्रामीण|पंचायत समिति की साधारण सभा में पानी के मुद्दे उठाकर अधिकारियों को घेरते पंचायत समिति सदस्य शंकर मीणा।
  • मांगें नहीं मानने पर सरपंच संघ ने दी प्रशासन गांवों के संग अभियान के बहिष्कार की चेतावनी

नवसृजित पंचायत समिति नांगल राजावतान की पहली बैठक मंगलवार को प्रधान दिनेश बारवाल की अध्यक्षता में हुई। बैठक की कार्रवाई शुरू होते ही सदस्यों ने नरेगा योजना में अधिकारियों की साठगांठ से भ्रष्टाचार के मामले को उठाया। धरणवास में नरेगा में मृतकों के नाम दर्ज कर भ्रष्टाचार के मामले में जानकारी चाही तो एसडीएम के सामने विकास अधिकारी डॉ. हरकेश मीणा, सहायक अभियंता नरेगा रमेश चंद्र महावर निरुत्तर दिखाई दिए।पंचायत समिति की पहली ही बैठक में सदस्य रामजी लाल मीणा, शंकर लाल मीणा, राकेश बौहरा ने ग्राम पंचायत की मिलीभगत से चहेतों के नाम मस्टररोल में दर्जकर सरकारी राशि की बंदरबांट कर रहे हैं।

अधिकारियों को शिकायत करने के बाद भी कार्रवाई नहीं की जा रही है। सदस्यों ने सहायक अभियंता रमेश चंद्र महावर से मस्टररोल में मृतकों के नाम दर्ज कर सरकारी राशि उठाई की जानकारी चाही तो कोई जवाब नहीं दे पाए। इस पर विकास अधिकारी ने कहा कि जांच कराकर दोषियों के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की जाएगी। विकास अधिकारी हरकेश मीणा ने निष्पक्ष जांच कराने का आश्वासन दिया।मृतकों के नाम जो मस्टररोल में हैंमृतक मांगीलाल महावर सर्वे क्रमांक 65, 71, 250, पप्पू लाल के 65, 71, 459, केसर देवी 65, 71, 463 व मृतक मोतीलाल 63,70, 626, फूली देवी जो आंखों से अंधी हैं उसका नाम भी में दर्ज कर दिया। सरकारी सेवा में कार्यरत कैलाश चंद्र जिसके सर्वे क्रमांक 65, 70, 620 हैं उसके मस्टररोल में नाम दर्ज हैं।

चार साल से नहीं बन रही श्रमिक डायरी

सरपंच संघ अध्यक्ष राजू बारवाल ने बताया कि श्रम विभाग की ओर से श्रमिकों की डायरी बनाने, शुभ शक्ति योजना में बेटी के विवाह पर मिलने वाली सहायता राशि स्वीकृत करने की एवज में कर्मचारियों द्वारा पैसे लिए जाने के आरोप लगाए। ग्राम पंचायत श्यालावास में 4 वर्षों से डायरी नहीं बनने के मामले की जांच कराए जाने की मांग की। गोठड़ा सरपंच रमेश चंद्र गुप्ता, नांगल राजावतान सरपंच ओमप्रकाश मीणा, श्यालावास सरपंच राजेंद्र मीणा ने जलदाय विभाग के कर्मचारियों पर हैंडपंप के पाइप खोलकर बेचने के आरोप लगाए। गांवों में खराब पाइपों को बदलने के लिए कर्मचारियों को पाइप उपलब्ध कराए जाते हैं, जिन्हें कर्मचारी ले जाकर बाजार में बेच रहे हैं। जिसकी शिकायत के बाद भी कार्रवाई नहीं हो रही है।

प्रशासन गांव के संग अभियान में लाभ दिलाने के निर्देश विकास अधिकारी डॉ. हरकेश मीणा ने कहा कि 2 अक्टूबर से प्रशासन गांव के संग अभियान शुरू किए जा रहे हैं। जनप्रतिनिधि लोगों को लाभान्वित किए जाने के लिए जागरूक करें।सरपंचों ने दी शिविरों के बहिष्कार की चेतावनीसरपंच संघ अध्यक्ष राजेंद्र बारवाल ने कहा कि राज्य सरकार की ओर से सरपंचों की 20 सूत्री मांगों पर विचार नहीं किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार ने सरपंचों की मांगें नहीं, मानी तो सरपंच संघ द्वारा 2 अक्टूबर से शुरू किए जा रहे प्रशासन गांवों के संग अभियान का बहिष्कार रखा जाएगा।

खबरें और भी हैं...