• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Dausa
  • Stayed In ICU In Jaipur Hospital For 18 Days, Came Positive 3 Times, But Lost The Mind, Won By The Mind… Mantra Gave Strength, And Won The Battle

जन संकल्प से हारेगा कोरोना:18 दिन तक जयपुर के अस्पताल में आईसीयू में रहा, 3 बार पाॅजिटिव आया, मगर मन के हारे हार है, मन के जीते जीत... मंत्र ने दी ताकत, और जीत ली जंग

दौसा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • गंभीर कोरोना संक्रमण होने के बावजूद अपनी इच्छाशक्ति से कोरोना को हराने वालों की जांबाज कहानियां, पढ़िए आज तीसरी कड़ी- फेफड़े 80% संक्रमित थे, ऑक्सीजन लेवल 60 पहुंच गया था, मगर हार नहीं मानी...

मोहनलाल सोनी | कोरोना वॉरियरकोरोना संक्रमित होने के बाद 18 दिन तक आईसीयू में रहा। 3 बार कोविड जांच में पाजिटिव आया। बावजूद अपने मन में कभी भी नकारात्मक विचार नहीं आने दिए। बुजुर्गों के दिए संदेश- मन के हारे हार है मन के जीते जीत... को जीवन का मूल मंत्र बनाकर मजबूती के साथ कोरोना की जंग लड़ी और कोरोना महामारी को सकारात्मक सोच के साथ हरा दिया।रामगढ़ पचवारा उपखण्ड का रहना वाला मैं मोहनलाल सोनी कोरोना से संक्रमित हुआ तो पहले घबरा गया। इस बीमारी से होने वाली तकलीफ व तमाम शंकाओं के बीच अपने को सकारात्मक रखने की हरसंभव कोशिश की। आज मैं कोरोना को जीतकर अपना सामान्य जीवन जीने लगा हूं।21 जुलाई को हल्का बुखार हुआ। 23 जुलाई को जांच कराई तो उसमें कोरोना पॉजिटिव पाया गया।

परिजन तुंरत महात्मा गांधी अस्पताल जयपुर ले गए जहां भर्ती होने के पहले 2 दिन काफी घबराहट बनी रही। ना भूख लग रही थी और ना प्यास। मात्र यह चिंता बनी हुई थी कि अब क्या होगा। यह प्रश्न बार-बार दिमाग में घूम रहा था। कोरोना महामारी को लेकर की जा रही तमाम तरह की बातों और टीवी-अखबार में आने वाली खबरों से डर और गहरा गया। मेरे फेफड़े 80 प्रतिशत तक संक्रमित हो गए थे और ऑक्सीजन लेवल भी 60 से लेकर 70 के बीच में आ गया। ऐसे में ऑक्सीजन पर ही मुझे रखा गया।

मगर पूर्वजों के मन के हारे हार है मन के जीते जीत... का दिया मंत्र उनके जीवन को बचाने में कारगर साबित हुआ। मेरे फेफड़े संक्रमित हो गए थे, मगर चिकित्सकों के छाती के बल उल्टा लेटने की विधि अपनाई और प्रयोग किया जिससे श्वसन प्रक्रिया ठीक हुई और फेफड़ों को मजबूती मिली। इसके अलावा सकारात्मक सोच के साथ कोरोना को हरा दिया।18 दिन बाद अस्पताल से छुट्टी मिल सकी। समय पर दवा लेने, उल्टा लेटने ताकि श्वसन प्रक्रिया ठीक हो, सोच को सकारात्मक बनाए रखना, पौष्टिक आहार लेने से कोरोना को हराने में पूरी मदद मिली। (जैसा कमलेश आशिका को बताया)

खबरें और भी हैं...