मंडियों में हड़ताल:आढ़त कम करने के विराेध में फल-सब्जी मंडियों में हड़ताल, फुटकर में भाव दोगुने

दौसा9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आढ़त एक प्रतिशत कम करने के विराेध में थाेक सब्जी व फल मंडी में रविवार काे हड़ताल रही। इसके चलते मंडी में करीब 30 लाख का काराेबार ठप रहा। लाेगाें काे दोगुने दाम पर सब्जी खरीदनी पड़ी।थाेक सब्जी मंडी में पहले 6 प्रतिशत आढ़त थी, लेकिन सरकार ने 1 मार्च से आढ़त पांच प्रतिशत कर दी। एक प्रतिशत आढ़त कम करने के विराेध में आढ़तियों ने रविवार काे मंडी में हड़ताल की। इससे जयपुर से सब्जी नहीं आई। थाेक मंडी में अधिकांश सब्जियां जयपुर से आती है। रविवार काे हड़ताल के कारण फुटकर सब्जी मंडी में करेला, भिंडी, कटहल, कैरी, लाल पीली शिमला मिर्च, रतालू, जमीकंद, टमाटर, अदरख, कद्दू आदि सब्जी नहीं आई। इससे शादी समारोह के लिए लाेगाें काे सब्जी नहीं मिली। लाेगाें काे महंगी सब्जियां खरीदनी पड़ी। हालांकि आसपास के कुछ किसान सब्जी लेकर आ गए। हड़ताल के कारण किसानों काे मंडी के बाहर सब्जी बेचनी पड़ी। जयपुर से सब्जी नहीं आने के कारण फुटकर मंडी में सब्जियां के भाव बढ़ गए। आढ़त व्यापार एसोसिएशन दाैसा के अध्यक्ष कन्हैयालाल सैनी ने बताया कि पहले आढ़त 6 प्रतिशत थी। सरकार ने एक मार्च से आढ़त 1 प्रतिशत कम कर दी। अब आढ़त पांच प्रतिशत कर दी। एक प्रतिशत आढ़त कम करने के विराेध में रविवार काे मंडी में एक दिन की हड़ताल रही। हड़ताल के कारण मंडी में करीब 30 लाख रुपए का काराेबार ठप रहा।लाेगाें काे फुटकर मंडी में करेला, टिंडा, भिंडी, हरी मिर्च, लाल पीली शिमला मिर्च, रतालू, जमीकंद आदि सब्जी नहीं मिली। मंडी में सब्जी के भाव बढ़ गए। साेमवार काे सावा होने से शादी समारोह के लिए मंडी में सब्जी नहीं मिली। शादी समारोह के लिए लाेगाें काे महंगी सब्जी खरीदनी पड़ी। फुटकर सब्जी विक्रेता संघ के महामंत्री राजू सैनी ने बताया कि मंडी में जयपुर से सब्जी नहीं आई। फुटकर सब्जी मंडी में आवक नहीं हाेने से सब्जियों के भाव बढ़ गए। फूल गाेभी 10 से 15 रुपए किलाे थी। रविवार काे 20 से 25 रुपए प्रति किलाे बिकी। वहीं टमाटर के भाव 10 से 12 थे, जाे 15 से 20, हरी मिर्च 30-40 से बढ़कर, 50-60, गाजर 10 से बढ़कर 15 व मटर के भाव 15-20 से बढ़कर 25-30 रुपए किलाे रहे।

खबरें और भी हैं...