प्रशासन गांवों के संग अभियान:शिविर छोड़कर आंगनबाड़ी केंद्र में सुस्ता रहे थे डॉक्टर, एसडीएम ने फटकारा, बोले : काम नहीं करना तो छुट‌्टी चले जाओ

दौसा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिकराय| हींगवा में शिविर का निरीक्षण मरते राज्य मंत्री ममता भूपेश एवं कलेक्टर। - Dainik Bhaskar
सिकराय| हींगवा में शिविर का निरीक्षण मरते राज्य मंत्री ममता भूपेश एवं कलेक्टर।
  • मंत्री एवं कलेक्टर के दौरे के बावजूद लापरवाही सामने आई, सैकड़ों फरियादियों ने बताई समस्याएं

हींगवा पंचायत मुख्यालय पर गुरुवार को प्रशासन गांवों के संग अभियान के अंतर्गत आयोजित शिविर में मौसमी बीमारियों से पीड़ित मरीजों के उपचार एवं स्वास्थ्य विभाग की योजनाओं से लोगों को लाभांवित किए जाने के उद्देश्य से नियुक्त मेडिकल टीम के प्रभारी डॉक्टर शिविर बीच में ही छोड़ पास के ही आंगनबाड़ी केंद्र पर दो चेयर लगाकर नींद निकालते नजर आए। शिविर से गायब प्रभारी की शिकायत एसडीएम तक पहुंची तो उन्होंने डॉक्टर को फटकार लगाते कहा कि काम नहीं करना तो छुट्टी लेकर चले जाओ। शिविर में राज्य मंत्री एवं कलेक्टर के दौरे के बावजूद भी अधिकारियों द्वारा इस तरह की लापरवाही बरतना शिविरों में महज खानापूर्ति माना जा रहा है।

हालांकि प्रभारी डॉक्टर की नींद का कारण तबीयत खराब होना बताया जा रहा है।सुबह 10 बजे से आईटी केंद्र परिसर में शुरू हुए शिविर में बिजली कनेक्शन, नामांतरण खुलवाने , रास्ता प्रकरण सहित अन्य समस्याओं को लेकर ग्रामीणों की भीड़ उमड़ी। एसडीएम रणजीत सिंह गोदारा, तहसीलदार राजकुमार मीना, बीडीओ राजेश मीना ने शिविर में प्राप्त शिकायतों की सुनवाई कर विभागीय अधिकारियों को प्रकरण दर्ज कर तत्काल समाधान के निर्देश दिए। इसी बीच मेडिकल टीम के काउंटर पर मौसमी बीमारियों से पीड़ित मरीजों की भीड़ लगी रही, लेकिन टीम प्रभारी डाॅ. रामकिशन मीना शिविर को बीच में ही छोड़ पास के ही आंगनबाड़ी केंद्र पर नींद पूरी करने चले गए। जिन्हें कुछ लोगों ने देखा तो एसडीएम को जाकर शिकायत की। एसडीएम ने प्रभारी को बुलाकर फटकार लगाई। एसडीएम ने कहा कि शिविर में काम नहीं करना वो अधिकारी छुट्टी लेकर घर चले जाएं।

लापरवाही किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने प्रभारी डॉक्टर को भी अपने स्थान पर दूसरा डॉक्टर भेजने के लिए कह दिया। हालांकि मेडिकल टीम प्रभारी ने स्वास्थ्य खराब होने की वजह से दवा लेकर कुछ देर आराम करने की बात कही है।शाम करीब 4 बजे महिला एवं बाल विकास मंत्री ममता भूपेश एवं कलेक्टर पीयूष समारिया ने शिविर का निरीक्षण कर लोगों की समस्याएं सुनी एवं अधिकारियों को समाधान के निर्देश दिए। मंत्री एवं कलेक्टर ने लोगों को पट्टे वितरित कर सरकार की योजनाओं का लाभ उठाने की अपील की। इस दौरान जिलाप्रमुख हीरालाल सैनी, ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष शिवराम मीना, सरपंच पिंटू महावर सहित अन्य मौजूद थे।

खेड़ला खुर्द में 127 लोगों को उद्योग मंत्री ने पट्टे वितरित किएलालसोट| उपखंड के खेडला खुर्द ग्राम पंचायत मुख्यालय पर प्रशासन गांवों के संग अभियान शिविर आयोजित किया गया। इस अवसर पर पानी बिजली सड़क सहित अन्य मुद्दों को लेकर लोगों की भारी भीड़ बनी रही। मौके पर ग्राम पंचायत प्रशासन द्वारा 127 लोगों को पट्टे उपलब्ध कराए गए। पट्टों का वितरण उद्योग मंत्री परसादी लाल मीणा प्रधान नाथू लाल मीणा उपखंड अधिकारी सरिता मल्होत्रा विकास अधिकारी दिवाकर मीणा द्वारा किया गया। इस अवसर पर लोगों को सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना से लोगों को लाभान्वित किया गया। पी.पी.ओ मौके पर ही जारी किए गए। वहीं दो ई-श्रमिकों को श्रमिक कार्ड बनाए गए। मौके पर अतिरिक्त विकास अधिकारी प्रकाश चंद्र शर्मा स्वच्छता समन्वयक संतोष शर्मा विमल जैमन कमलेश मीणा बिजली विभाग के अधिशासी अभियंता गुप्ता सरपंच अजय महावर सहित कई लोग मौजूद थे।

विधायक ने वितरित किए 111 पट्टेबापी| ग्राम पंचायत में प्रशासन गावों के संग अभियान आयोजित हुआ। विधायक मुरारी लाल मीणा व एसीएम मनीषा मीना ने मां सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप जलाकर शिविर का शुभारंभ किया। विधायक ने कहा कि प्रशासन गांवों के संग शिविर से कई लोग लाभान्वित हो चुके हैं। लोगों को इस अभियान के माध्यम से अधिक से अधिक अपनी समस्याओं का निराकरण कराने की बात कही। शिविर में 111 नि:शुल्क पट्टे वितरीत किए गए। राजस्व विभाग ने नामांतरण व पुराने अटके काम पूरे किए। शिविर में दिनभर लोगों की भीड़ रही। मौके पर ही 12 लोगों की पेंशन चालू की गई।

काम के लिए नरेगा प्रपत्र 7 भरवाया गया। विकास अधिकारी नाहरसिंह मीना, तहसीलदार महावीर प्रसाद बोकोलिया, नायब तहसीलदार कैलाश चन्द्र मीना, प्रधान प्रहलाद मीना रोहड़ा ने शिविर में बैठकर ग्रामीणों की समस्याएं सुनी व उनका समाधान किया। एसीएम व शिविर प्रभारी मनीषा मीना ने ग्रामीणों की शिकायतों को सम्बन्धित अधिकारी को मौके पर ही बुला कर हल करवाया। बद्रीनारायण बैरवा को 2 लाख का मुआवजा राशि का चेक दिया। खेत में काम करते बच्चे को सांप ने डंस लिया था, जिससे उसकी मृत्यु हो गई थी। वह काफी समय से भटक रहा था।

खबरें और भी हैं...